Home Blog Page 3

Mobile से पैसे कैसे कमाए – mobile se online paise kese kamaye in hindi

0

mobile se online paise kese kamaye in hindiMobile se online paise kese kamaye in hindi आज के समय में सभी के पास Android Mobile है। लेकिन इस मोबाइल के जमाने में बहुत से लोगो को पता नही है की इस Mobile Se Online Paise bhi kamaya जाते हैं। दोस्तो अगर आप के पास एक android mobile phone हैं तो आप भी पैसा कमा सकते हैं। इस लेख मे हम जानेंगे की मोबाइल फोन से ऑनलाइन पैसा कैसे कमाएं। और mobile phone se online paise kamane ke tarike । आज के समय में mobile se online paise kamane के लिए कई online aap हैं जिससे हम पैसा कमा सकते हैं।

दोस्तो आप भी mobile phone se online earning करना चाहते हैं तो ईस लेख को पूरा जरूर पढ़ें। दोस्तो आप भी अभी तक सोचते है कि online earning kaise kare तो ईस लेख में आपको कई online earning apps के बारे मे जानकारी मिलेगी जिसमे आप आसानी से पैसा कमा सकते हैं। तो आइए हम जानते हैं की वो कोनसे online paise kamane wale app हैं।

मोबाइल फोन से पैसा कैसे कमाएं – Mobile se online paise kese kamaye in hindi

दोस्तो mobile se online paisa kamaye के लिए हमे कई online earning apps मिल जाते है जिससे हम आसानी से घर बैठे पैसे कमा सकते हैं। इन online earn money aap मे हमे काम करना होता हैं। इस लेख में आगे आपको संपूर्ण जानकारी मिलेगी की कौनसे वो aap हैं जिसमे हम घर बैठे पैसे कमा सकते हैं।

यूट्यूब से पैसे कैसे कमाएं – youtube se online paise kese kamaye

YouTube दुनिया का सबसे Popular video प्लेटफार्म है। YouTube पर लोग वीडियो अपलोड करके अच्छा पैसा कमा रहे हैं। दोस्तो आप भी वीडियो ग्राफी करना जानते हैं तो आप YouTube पर जाइए और अपना accaunt बनाइए और अच्छी कैटेगरी के वीडियो बना के अपलोड करके YouTube se online paise kama सकते हैं। YouTube se paise kamane के लिए सबसे अच्छी बात यह है की youtube पर आपको किसी भी तरह का Investment नहीं करना पड़ता है। दोस्तो अगर आप यूट्यूब पर काम करना चाहते है। तो आपसे youtube किसी भी तरह का कोई Subscription नहीं मांगता है। यूट्यूब पर आप comedy video या Education की वीडियो बना कर अच्छा पैसा कमा सकते हैं। 

YouTube से कमाई केसे होती है – how to earn money from youtube

दोस्तो आप नही पता की YouTube se earning कैसे होती है तो बता दें कि youtube world famous video plateform है यहां पर प्रतिदिन लाखों की संख्या में वीडियो अपलोड होते हैं। यूट्यूब से कमाई करने के लिए हमें यहां पर एक अकाउंट बनाना होता है। अकाउंट बनाने के बाद में हमें अपने हिसाब से प्रतिदिन वीडियो अपलोड करने होते हैं और यूट्यूब की पॉलिसी के अनुसार जब हमारा चैनल पैसा कमाने के लायक हो जाता है। तब हमारे द्वारा बनाई गई वीडियो पर youtube add देना शुरू करता है और जब हमारे वीडियो में ऐड चलती है तो add के माध्यम से हमें यूट्यूब पैसा देता है। और जिसका कंटेंट जितना अच्छा होगा और जितना वायरल होगा उसके अनुसार हमें प्रतिदिन कमाई होती रहती है। 

Blogging से ऑनलाइन पैसे कैसे कमाए – Mobile se online paise kese kamaye in hindi

दोस्तो अगर आप को Blogging के बारे मे जानकारी है तो blogging भी इंटरनेट से पैसे कमाने का सबसे अच्छा तरीका है। Blogging se paise kamane के लिए अच्छी तरह से किसी भी टॉपिक के बारे में पोस्ट लिखना आना चाहिए। जो आप लिखते है। उसे सम्पूर्ण और विस्तार से पोस्ट लिखते है तो आपको ब्लॉगिंग में ज्यादा सफल मिलेगी। दोस्तो blogging थोड़ा कठिन है लेकिन आपको धीरे धीरे समूर्ण जानकारी हो जाने के बाद आप अच्छी कैटेगरी में अपनी पोस्ट लिखते हैं तो आप blogging se paise kama सकते है। Blogging se online earning karne के लिए आप को इंटरनेट पर जानकारी मिल जाएगी और आप आसानी से घर बैठे blogging se paise kama सकते हैं।

Dream11 App से पैसे कमाए – Mobile se online paise kese kamaye in hindi

दोस्तो अगर आप cirket के बारे जानकारी है तो आप Dream11 App से भी अच्छा पैसा कमा सकते है। Dream11 Mobile Application मे अकाउंट बनाना होता है। इसके बाद इस Account में थोड़े से पैसे डालकर उनसे एक अच्छी Team बनानी होती है। अगर आपके द्वारा बनाई गई टीम जीत जाती है तो आपको अपनी रैंकिंग के अनुसार पैसे मिल जाते है। आपके द्वारा जीती हुई राशि सीधा अपने बैंक में ट्रांसफर कर सकते हैं। Dream11 आपको अपने हिसाब से 11 खिलाड़ियो की टीम बनानी होती है जिसमे एक captain and voice captain बनाना होता हैं। 

CashKaro App से पैसे कमाए – online earning kese kare

दोस्तो CashKaro App भी online earning karne का अच्छा स्रोत है। Cashkaro app को आपको अपने mobile phone में इनस्टॉल करना होता है। इसके बाद अपने Mobile Number से Login करना होता है। इस एप्लीकेशन से Flipkart, Snapdeal और Myntra जैसी Online Shopping site पर सामान खरीद सकते है। और Cashback के रूप में पैसे कमा सकते है। इस कंपनी का कहना है की इन्होने अब तक 150 करोड़ से अधिक रुपये Cashback के रूप में अपने सभी User को दिए है। CashKaro एप्लीकेशन 100% Cashback देने वाला aap हैं। दोस्तो अगर आप भी online shopping करते हैं तो आप एक बार इस एप्लीकेशन को जरूर उपयोग करे।

AppKarma से पैसे कैसे कमाए – online earn money from appkarma in hindi

दोस्तो आप भी AppKarma की मदद से online earning करना चाहते हैं तो बता दें कि AppKarma एक बहुत ही अच्छी Applicaton है। यहाँ से आप कुछ Task को पूरा करके पॉइंट जीत सकते है। इन Point को आप Real Money में Convert कर सकते है। जब आप पहली बार इस AppKarma को अपने फ़ोन में इनस्टॉल करते है तो आपको 300 Point का Reward दिया जाता है। यहाँ से Point को अपने Bank Account में Transfer कर सकते हैं। इसके लिए आपके पास PayPal Account होना जरुरी है। 

Affiliate Marketing से पैसे कैसे कमाएं – Mobile phone se online paise kese kamaye in hindi

दोस्तो अगर आप Affiliate Marketing online earning करना चाहते हैं तो बता दें कि Affiliate Marketing अच्छा तरीका है। लेकिन Affiliate Marketing के लिए आप के पास अच्छा नॉलेज होना चाहिए। Affiliate Marketingb से लोग हर महीने लाखो रुपया कमा रहे है। दोस्तो अगर आप को नही पता की Affiliate Marketing kya hota nhi तो जान ले की Affiliate Marketing online shopping site ka Programe होता है। जो अपने प्रोडक्ट की सेल बढ़ाने के लिए होता है। इसमें हमें एक अपना अकाउंट बनाना होता है और अकाउंट बनाने के बाद हम किसी भी प्रोडक्ट को शेयर करते हैं और वहां से कोई भी व्यक्ति वह प्रोडक्ट खरीदता है तो उसके पीछे जो कमीशन होता है वह हमें मिलता है। इसी तरह हम जितना ज्यादा प्रोडक्ट सेल करवाते हैं तो हमको ज्यादा कमीशन मिलता है और यहां पर जो भी पेमेंट हमको मिलता है वह हम सीधा अपने बैंक अकाउंट में ट्रांसफर कर सकते हैं।

Instagram से पैसे कैसे कमाए – instagram se paisa kese kamaye

आज के समय में Instagram एक बहुत ही Popular Social Media Application है। जिससे लोग अच्छा पैसा कमा रहे हैं। दोस्तो अगर आप भी Instagram Use करते है। तो आप भी इससे पैसे कमा सकते है। इसके लिए आपको थोड़ा धैर्य रखने की जरुरत है। Instagram पर आपको अपने Interest से सम्बंधित Page बनाना है। इसके बाद इस पर अच्छा Content डालकर एक अच्छा सा Audience Base तैयार करना होता है। जब आपके पास अधिक Followers हो जाएंगे तब आप Instagram से Sponsorship लेकर पैसे कमा सकते है। अगर आप अपने पेज पर किसी भी Company का Product Promotion करते है तो कंपनी आपको इसके पैसे देती है। इस तरह आप Instagram se online earning कर सकते है।

ढब्बावाली माता मंदिर का इतिहास – dhabbawali mata mandir in hindi

0

Kharvi mata temple history in hindidhabbawali mata mandir in hindi ढब्बावाली माता का मंदिर राजस्थान में जालौर जिले के खासरवी गांव में स्थित है। मां ढब्बावाली का यह मंदिर खारवी माता के नाम से भी जाना जाता हैं। ढब्बावाली माता जी का मंदिर जालौर जिले के सांचौर शहर से लगभग 35 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। ढब्बावाली माता का यह मंदिर देश भर में प्रसिद्ध है इसलिए यहां पर देश के कोने-कोने से श्रद्धालु माता के दरबार में दर्शन करने आते हैं। कहा जाता है कि सबसे पहले ढब्बाजी नाम के भक्त ने माता जी की सेवा पूजा किया करते थे। ढब्बावाली माता जी के इस मंदिर का इतिहास वर्षो पुराना है। 

kharvi mata in hindi ढब्बावाली माता मंदिर खासरवी जालौर के इतिहास के बारे मे जानना चाहते है तो इस लेख को पूरा जरुर पढ़े। इस लेख में आप ढब्बावाली माता मंदिर कैसे पहुंचें, खारवी माता मंदिर में मेला कब लगता हैं। सम्पूर्ण जानकारी इस लेख में आप पढ़ सकते हैं।

ढब्बावाली माता नाम कैसे पड़ा – Dhabbawali Mata name kese pdaDhabawali mata photo gallery

Dhabbawali mata in hindi कहा जाता है कि यह मंदिर कई वर्षों पुराना है। सबसे पहले यहां खासरवी गांव में माता जी की सेवा पूजा ढब्बाजी नाम के एक भक्त करते थे। ढब्बाजी माता के परम भक्त थे और उन्होंने ही माता के शक्तिपीठ के लिए उन्नत धोरे का चयन किया था। ढब्बाजी की भक्ति से प्रसन्न होकर माताजी ने ढब्बा नाम अपना लिया इसलिए माता जी को ढब्बावाली माता के नाम से जाना जाता है। ढब्बावाली माता को खारवी माता, आवड़ तथा भगवती माता के नाम से भी जाना जाता है। 

ढब्बावाली माता मंदिर परिसर – Dhabbawali mata mandir khasarvi in hindiDhabbawali mata temple

khasarvi mata mandir ढब्बावाली माता का मंदिर पूरे देश में प्रसिद्ध है और यहां पर दूर-दूर से दर्शन के लिए श्रद्धालु आते रहते हैं सब हम मंदिर में प्रवेश करते हैं तो सबसे पहले हमें माताजी का हाल ही में बना नया मंदिर में माताजी की मनमोहक प्रतिमा के दर्शन होते हैं। माताजी के इस नए मंदिर में की गई कारीगरी और बेजोड़ नक्काशी देखने लायक है। माताजी का नया वाला मंदिर के ठीक पीछे की दिशा में कई वर्षो पुराना मंदिर है। जिसमे मां ढब्बावाली की प्रतिमा है। सामने ही हवन कुंड है। ढब्बावाली माताजी विशाल मंदिर परिसर हैं जो हमेशा भक्तो के लिए खुला रहता हैं।

ढब्बावाली माता मंदिर में मेला कब लगता हैं – Dhabbawali mata mandir khasarvi mela in hindiDhabawali mata mandir kese jaye

Dhabawali mata temple in hindi माताजी के इस मंदिर में हर माह की पूर्णिमा को मेला लगता हैं जिसमे हजारों की संख्या में दूर-दूर से श्रद्धालु माँ ढब्बावाली के दर्शन करने आते हैं। कहा जाता हैं की मां ढब्बावाली के दरबार में आने वाले हर भक्त की मन्नत पूरी होती है। ढब्बावाली माता के दर्शन करने के लिए राजस्थान के अलावा देश भर से लोग आते हैं। कहते देश की आजादी से पहले पाकिस्तान से भी श्रद्धालु इस मंदिर में दर्शन करने आते थे।

ढब्बावाली माता का चमत्कार – dhabbawali mata ka samtkarDhabawali mata temple

dhabbawali mata mandir in hindi खासरवी गांव के बड़े बुजुर्गों का कहना है कि गांव में कभी चोर चोरी नही कर सकते अगर चोरी कर भी लेते तो चुराया हुआ सामान गांव में छोडऩे के बाद ही चोर गांव की सीमा से बाहर जा पाते थे। ढब्बावाली माता के चमत्कार से खासरवी गांव में चोर चोरी करने से भी घबराते है।

यह भी पढ़े : तनोट माता जैसलमेर 

ढब्बावाली माता मंदिर से जुड़ी जानकारियां – dhabbawali mata mandir khasarvi in hindiDhabawali mata history in hindi

kharvi mata कहा जाता हैं की माताजी के मंदिर में भोग लगाई हुई प्रसाद हम खासरवी गांव से बाहर नहीं ले जा सकते। और पुराने समय में यहां पर घरों के दरवाजे और छत नही बनाए जाते थे इसका कारण यह था कि मंदिर में छत नही होने से गांव में किसी भी घर पर छत नहीं बनवाई जाती थी। मंदिर में पूजारी शक्तिगिरी जी की ओर से माता जी से मन्नत मांगने के साथ ही एक नये मंदिर का निर्माण कर मंदिर की छत बनवाई गई। इसके बाद गांव में अन्य घरों में छत बनवाई जाने लगी।

ढब्बावाली माता मंदिर केसे जाए – dhabbawali mata mandir kese jayeKharvi mata temple history in hindi

दोस्तो आप भी ढब्बावाली माताजी के दर्शन करने जाना चाहते हैं तो बता दें कि आप सड़क मार्ग से आसानी से जा सकते है। आप रेल या हवाई जहाज से जाना चाहते हैं तो बता दें कि इसके लिए आप को ढब्बावाली माता मंदिर खासरवी के नजदीकी रेलवे स्टेशन और हवाई अड्डे का चयन करना होगा वहा से आप बस द्वारा ढब्बावाली माता मंदिर आसानी से पहुंच सकते हैं।

यह भी पढ़े : वांकल माता विरात्रा धाम

सड़क मार्ग द्वारा ढब्बावाली माता मंदिर केसे जाए – how to reach dhabawali mata temple by road in hindi

दोस्तो आप बस द्वारा ढब्बावाली माता मंदिर जाना चाहते हैं तो बता दें कि सांचौर, बाड़मेर, धोरीमन्ना और रामजी का गोल यह शहर राजस्थान के प्रमुख सड़क मार्गों से जुड़े हुए हैं यहां से ढब्बावाली माता मंदिर के लिए आप को सीधी बस आसनी से मिल जायेगी।Dhabbawali mata story in hindi

रेल मार्ग द्वारा ढब्बावाली माता मंदिर केसे जाए – how to reach dhabawali mata mandir by train in hindi

दोस्तो आप रेल से ढब्बावाली माता मंदिर खासरवी जाना चाहते हैं तो बता दें कि यहा का नजदीकी रेलवे स्टेशन रानीवाड़ा और बाड़मेर है। रानीवाड़ा से ढब्बावाली माता मंदिर खासरवी की दूरी लगभग 82 किलोमीटर है। रानीवाड़ा से आप बस द्वारा सांचौर पहुंचना होगा सांचौर से आपको ढब्बावाली माता मंदिर खासरवी के लिए सीधी बस आसनी से मिल जायेगी। अगर आप बाड़मेर रेलवे स्टेशन से आना चाहते है तो आपको धोरीमन्ना शहर आना होगा धोरीमन्ना से आपको ढब्बावाली माता मंदिर के लिए आपको सीधी बस मिल जायेगी।

यह भी पढ़े : किराडू के डरावने मंदिर

हवाई जहाज से ढब्बावाली माता मंदिर केसे जाए – how to reach dabbawali mata temple by airplane in hindi

दोस्तो आप हवाई जहाज से ढब्बावाली माता मंदिर खासरवी जाना चाहते हैं तो बता दें कि यहा का नजदीकी हवाई अड्डा जोधपुर है जो खासरवी से लगभग 280 किलोमीटर दूर स्थित है। जोधपुर से आप सरकारी और प्राइवेट बस द्वारा रामजी का गोल पहुंचना होगा रामजी का गोल पहुंचने के बाद आपको यहां से सीधी बस आसानी से मिल जाएगी।

ढब्बावाली माता, खारवी माता मंदिर के आस पास बड़े बड़े शहरो की दूरी – dhabwali mata, distance of big cities from kharvi mata temple in hindi

रामजी का गोल से ढब्बावाली माता मंदिर की दूर – Ramji Ka Gol to Dabbawali Mata Temple Distance

55 किलोमीटर

धोरीमन्ना से ढब्बावाली माता मंदिर की दूरी – Dhorimanna to Dhabawali Mata Temple Distance

56 किलोमीटर

सांचौर से ढब्बावाली माता मंदिर की दूरी – Sanchore to Dhabbawali Mata Temple Distance

35 किलोमीटर

हाड़ेचा से ढब्बावाली माता मंदिर की दूरी – Hadecha to Dhabawali Mata Temple Distance

20 किलोमीटर

बाड़मेर से ढब्बावाली माता मंदिर की दूरी – Barmer to Dhabawali Mata Mandir Distance

123 किलोमीटर

ढब्बावाली माता मंदिर फोटो गैलरी – dhabawali mata temple photo gallery

Kharvi mata temple images

Dhabbawali mata kharvi
Kharvi mata mandir

Dhabbawali mataDhabbawali mata mandirDhabbawali mata temple photo

ऐ अक्षर तिरंगा फोटो – a name tiranga dp photo

0

a name tiranga dp photo

ऐ नाम से तिरंगा फोटो – A name tiranga dp photo

A name tiranga a name tiranga dp A name tiranga photo gallery A name flags for India

 

डलहौजी कैसे जाये – क्या देखें – dalhousie hill station in hindi

Dalhousie in hindidalhousie hill station in hindi डलहौजी भारत के हिमाचल प्रदेश राज्य में स्थित एक खूबसूरत हिल स्टेशन है जो यहा पर आने वाले पर्यटकों के लिए स्वर्ग से कम नहीं हैं। डलहौजी की समुद्र तल से इसकी ऊंचाई 2,036 मीटर है। डलहौजी अपनी प्राकृतिक सुन्दरता के कारण पूरे विश्व मे प्रसिद्ध हिल स्टेशन है। यहां की सुन्दर घाटियां, घास के मैदान, ऊंचे पहाड़, कल कल करते झरनें और तेज गति से चलने वाली नदियों का मनमोहक दृश्य हर किसी को अपनी ओर खींचता है। डलहौजी हिमाचल प्रदेश का खूबसूरत हिल स्टेशन होने से यहां पर गर्मियों के मौसम में अधिक संख्या में पर्यटक घूमने आते हैं। जो यहां पर भरपूर आनंद उठाते हैं।

dalhousie in hindi दोस्तो आप भी डलहौजी हिल स्टेशन हिमाचल प्रदेश मे घूमना चाहते हैं तो ईस लेख को पूरा जरूर पढ़िए ईस लेख मे डलहौजी के प्रसिद्ध पर्यटन स्थलों के बारे मे संपूर्ण जानकारी दी गई है। जैसे डलहौजी का इतिहास, डलहौजी की यात्रा कैसे करें, डलहौजी की यात्रा के दौरान क्या देखें, डलहौजी में घूमने के लिए सबसे अच्छी जगह, डलहौजी का स्थानीय भोजन क्या है, और डलहौजी की यात्रा के दौरान कहा ठहरे।

डलहौजी का इतिहास – dalhousie history in hindi in dalhousie in hindidalhousie history in hindi

dalhousie ka itihaas डलहौजी को पर्यटन स्थल के रूप में विकसित करने का श्रेय अंग्रेजों को जाता है। अंग्रेज यहां की प्राकृतिक सुंदरता को देखकर मुग्ध हो उठे थे। और गर्मियों का मौसम बिताने के लिए यह जगह खास थी। ब्रिटिश शासक लॉर्ड डलहौजी को भी यह स्थान बेहद प्रिय था तभी इस स्थान का नाम डलहौजी के नाम से जाना जाता हैं। नेताजी सुभाष चंद्र बोस ने आज़ादी के आंदोलन के दौरान 5 महीने डलहौजी में गुजारे थे। गुरुवर रवीन्द्रनाथ टैगोर ने भी सन् 1883 में यहां एक माह गुजारा था और यहां के रमणीय वातावरण में रमकर कई कविताओं की रचना की थी। शहीद भगत सिंह के चाचाजी अजीत सिंह के साथ भी इस स्थल की यादें जुड़ी हुई हैं। प्रसिद्ध पंजाबी साहित्यकार नानक सिंह ने भी डलहौजी में साहित्य-सृजन अपना काफी समय यहां बिताया था। आज के समय में डलहौजी दुनिया के सबसे लोकप्रिय और खुबसूरत पर्यटन स्थल के रूप में जाना जाता हैं।

डलहौजी हिमाचल प्रदेश में क्या देखें – What to see in dalhousie himachal pradesh in hindiDalhousie kese jaye

dalhousie hill station in hindi डलहौजी हिमाचल प्रदेश की चंबा घाटी का प्रवेश द्वार माना जाता है। यहां कदम रखते ही पर्यटक यहां के प्राकृतिक वातावरण में रम-सा जाता है और यहां पर एक आत्मिक आनंद की अनुभूति होती है। यहां आने वाले पर्यटकों को कभी गगनचुंबी पर्वत आकर्षित करते हैं, तो कभी घाटियों के सीने पर बने कलात्मक घर अपनी ओर आने के लिए विवश करते हैं। कभी झरनों का संगीत मदमस्त कर देता है तो कभी शीतल हवा के झोंके ताजगी का अहसास कराते हैं। यहां से पंजाब के कुछ मैदानी इलाकों के साथ-साथ कश्मीर क्षेत्र की विशालकाय हिमानी चोटियों को भी देखा जा सकता है। पठानकोट-चंबा मार्ग पर बनी खेत से 7 किलोमीटर सर्पाकार सड़क घने जंगलों से गुजरती हुई डलहौजी शहर पहुंचती है। पंजपुला, डायना कुंड, कालाटोप, सतधारा, झंदरीघाट और खजियार यहां के प्रमुख आकर्षण स्थल हैं। यहां की पर्वतमालाओं के बीच कलकल बहती हुई नदियां यहां के नैसर्गिक सौंदर्य में चार चांद लगा देती हैं।

यह भी पढ़े: शिमला हिमाचल प्रदेश में घूमने की जानकारी

डलहौजी में देखने लायक जगह डैनकुंड पीक – dainkund peak dalhousie hill station in hindi

dainkund peak dalhousie image

dalhousie in hindi डैनकुंड पीक डलहौजी शहर की सबसे ऊंचाई पर स्थित एक बेहद खूबसूरत पर्यटन स्थल है। यहां से रावी, व्यास और चिनाव नदियों के बहते हुए पानी का मनमोहक नजारा देखने लायक है। डैनकुंड पीक जिसे सिंगिंग हिल के नाम से भी जाना जाता है। यहां आस-पास बर्फ से ढकी चोटियों और हरा-भरा वातावरण पर्यटकों को अपनी और आकर्षित करता है। डैनकुंड पीक पर साल भर पर्यटक आते रहते हैं। दोस्तो आप भी कभी डलहौजी में घूमने जाते हैं तो इस जगह पर जरूर जाएं।

डलहौजी का प्रमुख पर्यटन स्थल खज्जियार – dalhousie ka pramukh paryatan sthal khajjiar in hindi khajjiar dalhousie photos

khajjiar dalhousie in hindi खज्जियार डलहौजी से 22 किलोमीटर दूरी पर स्थित हैं जो डलहौजी का प्रमुख पर्यटन स्थल है। समुद्र तल से 1890 मीटर ऊंचाई पर स्थित खज्जियार को मिनी स्विट्जरलैंड व मिनी गुलमर्ग के नाम से जाना जाता है। खज्जियार में चीड़ और देवदार के घने पेड़ों की प्राकृतिक सुंदरता का एक अलग ही अहसास होता है। खज्जियार मे एक तश्तरीनुमा झील है, जो 1.5 किलोमीटर लंबी है। सर्दियों में खजियार जब बर्फ का दुशाला ओढ़ता है, तो यहां का सौंदर्य गजब ढाने लगता है। यहां झील किनारे पहाड़ी शैली में बना एक मंदिर भी है, जिसमें नाग देवता की प्रतिमा स्थापित है।

यह भी पढ़े: ऊटी तमिलनाडु में घूमने की जानकारी

डलहौजी में घूमने लायक अच्छी जगह पंजपुला – panjpula good place to visit in dalhousie hill station in hindipanjpula dalhousie in hindi

panjpula dalhousie in hindi डलहौजी के अजीत सिंह रोड पर स्थित पंजपुला एक झरना है इस झरने में पाँच धाराएँ एक साथ बहती है इस लिए इसे पंजपुला झरना के नाम से जाना जाता हैं। यहां एक बहुत ही खूबसूरत प्राकृतिक जलकुंड है, जो दर्शनीय है। इसके अलावा यहां क्रांतिकारी शहीद भगत सिंह के चाचा अजीत सिंह की समाधि भी देखने योग्य है। पंचपुला हरे देवदार के पेड़ों से घिरा हुआ है इस लिए यह जगह पर्यटकों को आकर्षित करती हैं। दोस्तो आप भी कभी डलहौजी में घूमने जाते हैं तो पंजपुला झरना जरूर जाएं।

डलहौजी में देखने वाली जगह झंद्री घाट – jhandri ghat to see in Dalhousie in Hindi

top tourist places in dalhousie in hindi डलहौजी से 2 किलोमिटर की दूरी पर स्थित झंद्री घाट पिकनिक के लिए यह अच्छा स्थान है। और पुरातात्त्विक स्थलों में रुचि रखने वाले पर्यटक इस घाट पर अवश्य जाते हैं। यहां पुराने महलों के खंडहर और अन्य पुरानी इमारतें देखने लायक हैं। झंद्री घाट समुद्र तल से 2036 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है। दोस्तो आप भी कभी डलहौजी की यात्रा पर जाते हैं तो इस घाट पर जाना ना भूलें।

डलहौजी में घूमने की सबसे अच्छी जगह सतधारा झरना – best place to visit in dalhousie satdhara waterfall in hindisatdhara waterfall dalhousie in hindi

dalhousie in hindi सतधारा डलहौजी से 3 किलोमिटर दूर पंजपुला मार्ग पर स्थित एक झरना है। इसका पानी अत्यंत स्वच्छ व रोग-निवारक है। इस झरने में कभी छोटी-छोटी सात धाराएं गिरती थीं इसी वजह से इसे सतधारा के नाम से जाना जाता है। सतधारा के आस पास बर्फ से ढके पहाड़ और देवदार के पेड़ों की प्राकृतिक सुंदरता यहां पर आने वाले पर्यटकों का मन मोह लेता है। सतधारा का वातावरण बहुत ही शांत है इसलिए यहां पर वह लोग ज्यादा आते हैं को शहर की भीड़-भाड़ वाली जिंदगी से दूर जाकर शांति का अनुभव करना चाहते हैं। दोस्तों आप भी कभी हिमाचल प्रदेश की खूबसूरत हिल स्टेशन डलहौजी की यात्रा पर आते हैं तो सतधारा वाटरफॉल को देखने जरूर जाएं।

यह भी पढ़े: जम्मू में घूमने की जानकारी

डलहौजी के आकर्षण स्थल कालाटोप वन्यजीव अभयारण्य – kalatop dalhousie hill station in hindi

dalhousie tourism in hindi कालाटोप डलहौजी से 11 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। यहां टैक्सी व जीप द्वारा पहुंचा जा सकता है। कालाटोप वन्यजीव अभयारण्य को कलातोप खजियार अभयारण्य भी कहा जाता हैं। समुद्र तल से इसकी ऊंचाई लगभग 2440 मीटर है। बांस, चीड़ व देवदार के पेड़ों के मध्य में स्थित यह पर्यटन स्थल बेहद आकर्षक है। यहां पर पर्वतीय पंछियों की चहचहाट पर्यटकों का मन मोह लेती है। यहां पर आने वाले पर्यटक प्राकृतिक सुंदरता में रम जाते हैं और यहां पर फोटोग्राफी और वीडियोग्राफी का भरपूर आनंद उठाते हैं। दोस्तों आप भी कभी डलहौजी की यात्रा पर आते हैं तो इस जगह पर जरूर जाएं।

डलहौजी का प्रमुख दर्शनीय स्थल चामुंडा देवी मंदिर – chamunda devi temple dalhousie in hindichamunda devi temple dalhousie images

top temple in dalhousie in hindi डलहौजी में चामुंडा देवी का मंदिर मां काली को समर्पित है। यह मंदिर डलहौजी के सबसे प्रसिद्ध मंदिरों में से एक है। पौराणिक कथाओं के अनुसार कहा जाता है कि यहां पर देवी अंबिका ने मुंडा और चंदा नाम के राक्षसों का वध किया था। कहा जाता है कि यह मंदिर 800 सालों से भी अधिक पुराना है। यहां आस पास बहुत ही खूबसूरत हरियाली का नजारा देखने लायक है। दोस्तो आप भी कभी डलहौजी घूमने जाते हैं तो इस मंदिर में दर्शन करने जरूर जाएं।

यह भी पढ़े: अल्मोड़ा हिल स्टेशन घूमने की जानकारी

डलहौजी घूमने जाने का सही समय – best time to visit in dalhousie in hindiDalhousie tourism in hindi

dalhousie himachal pradesh in hindi दोस्तों वैसे तो आप डलहौजी हिमाचल प्रदेश में घूमने का प्रोग्राम बरसात के मौसम को छोड़कर साल के किसी भी महीने में बना सकते हैं। डलहौजी का मौसम सालभर सुखद रहता है। हालांकि डलहौजी जाने का सबसे अच्छा समय मार्च-जून के बीच का माना जाता है। डलहौजी में गर्मियों में मौसम बड़ा सुहावना होता है। और सर्दियों में यहां हिमपात का दृश्य देखने लायक होता है। दोस्तो अगर आप सर्दियों में डलहौजी घूमने जाते हैं तो गर्म कपड़े लेकर जरूर जाएं।

डलहौजी घूमने कैसे पहुंचे – How to reach Dalhousie in Hindi

dalhousie kese jaye दोस्तो आप भारत का खूबसूरत हिल स्टेशन डलहौजी हिमाचल प्रदेश में घूमने की यात्रा करना चाहते हैं तो बता दें कि डलहौजी भारत में सबसे ज्यादा देखें जाने वाले हिल स्टेशनों में से एक है। यहां पर सालभर पर्यटक आते रहते हैं। डलहौजी भारत के विभिन्न शहरों से अच्छी तरह जुड़ा हुआ है। डलहौजी मे आप सड़क मार्ग, रेल मार्ग और हवाई मार्ग से आसानी से पहुंच सकते हैं।

सड़क मार्ग से डलहौजी कैसे पहुंचे – How to reach Dalhousie by Road in Hindidalhousie trip by bus photo

dalhousie trip by bus in hindi दोस्तों आप भारत मे किसी भी शहर में रहते हैं और बस द्वारा सड़क मार्ग से डलहौजी हिमाचल प्रदेश की यात्रा करना चाहते हो तो बता दें कि डलहौजी देश के सभी प्रमुख सड़क मार्गो से अच्छी तरह जुड़ा हुआ है। देश के बड़े शहर दिल्ली,पंजाब, हरियाणा, राजस्थान और भी पड़ोसी राज्य से डलहौजी के लिए प्रतिदिन बसों का आवागमन रहता है।आप देश के किसी भी हिस्से से सड़क मार्ग द्वारा डलहौजी आसानी से पहुंच सकते हैं। 

यह भी पढ़े: गुलमर्ग में घूमने की जानकारी

रेल द्वारा डलहौजी घूमने कैसे पहुंचे – How to reach dalhousie by train in hindidalhousie trip by train

dalhousie railway station दोस्तों अगर आप ट्रेन द्वारा डलहौजी हिमाचल प्रदेश की यात्रा करना चाहते हैं तो बता दे कि डलहौजी का निकटतम रेलवे स्टेशन पठानकोट है। डलहौजी से पठानकोट की दूरी लगभग 80 किलोमीटर है। पठानकोट रेलवे स्टेशन भारत के प्रमुख शहरों से अच्छी तरह जुड़ा हुआ है। पठानकोट के लिए दिल्ली, पंजाब, हरियाणा, जोधपुर, जयपुर जैसे शहरों से हमेशा ट्रेनों का आवागमन रहता है। आप देश के किसी भी हिस्से से ट्रेन द्वारा पठानकोट आसानी से पहुंच सकते हैं। पठानकोट रेलवे स्टेशन पहुंचने के बाद आप यहां से सरकारी और निजी बस द्वारा डलहौजी आसानी से पहुंच सकते हैं।

हवाई जहाज से डलहौजी घूमने कैसे पहुंचे – how to reach dalhousie by airplane in hindidalhousie trip by airplane

dalhousie airport in hindi दोस्तों अगर आप डलहौजी हिमाचल प्रदेश की यात्रा हवाई जहाज से करना चाहते हैं तो बता दें कि डलहौजी का नजदीकि एयरपोर्ट गग्गल हैं। जो डलहौजी से 14 किलोमीटर दूर स्थित हैं। गग्गल हवाई अड्डा डलहौजी का घरेलू हवाई अड्डा है। यहां से टैक्सी द्वारा डलहौजी हिल स्टेशन आसानी से पहुंच सकते हैं। डलहौजी के नजदीक बड़े एयरपोर्ट जम्मू, चंडीगढ़, अमृतसर एयरपोर्ट का भी चुनाव आप कर सकते हैं। इन शहरो से भी आप आसनी से सरकारी और लग्जरी बस द्वारा डलहौजी आसानी से पहुंच सकते हैं। 

यह भी पढ़े: श्रीनगर में घूमने की जानकारी

डलहौजी की यात्रा के दौरान कहां ठहरें – where to stay during your trip to dalhousie hill station in hindi

top hotels in dalhousie in hindi दोस्तों आप अगर डलहौजी हिमाचल प्रदेश घूमने आते हैं और यहां ठहरना चाहते हैं तो बता दे की डलहौजी हिमाचल प्रदेश का सबसे खूबसूरत हिल स्टेशन है। और यहां पर अधिक संख्या में पर्यटक घूमने आते रहते हैं। इस लिए डलहौजी में कई सस्ती और महंगी होटल मौजूद है। जिसमें आप अपने बजट के अनुसार किसी भी होटल में ठहर सकते हैं। होटल में ऑनलाइन और ऑफलाइन बुक कर सकते हैं।

डलहौजी का स्थानीय भोजन – dalhousie local food in hindidalhousie famous sweet

best restaurants in dalhousie दोस्तों डलहौजी हिल स्टेशन घूमने के साथ-साथ भोजन और नाश्ता के बारे मे जानना चाहते हैं। तो बता दें कि डलहौजी एक खूबसूरत हिल स्टेशन होने के नाते यहां पर बड़ी संख्या में पर्यटक घूमने आते है। और यहां पर आपको एक से बढ़कर एक नाश्ता और भोजन के लिए होटल मिलेगा। आप यहां पर हिमाचली स्वादिष्ट भोजन का आनंद ले सकते हैं। डलहौजी के स्थानीय भोजन में आपको चपाती, दाल, ग्रेवी और दही आदि मिलेगा और इनके अलावा चाइनीस और साउथ इंडियन डिश मिलेगी।

यह भी पढ़े: किराडू मंदिर बाड़मेर का इतिहास

डलहौजी के नजदीक शहरो की दूरी – distance of cities near dalhousie in hindi

डलहौजी से मनाली की दूरी – dalhousie to manali distance

327 किलोमीटर

डलहौजी से शिमला की दूरी – Dalhousie to Shimla distance

316 किलोमीटर

डलहौजी से धर्मशाला की दूरी – dalhousie to dharamshala distance 

120 किलोमीटर

डलहौजी से चम्बा की दूरी – dalhousie to chamba distance

56 किलोमीटर

डलहौजी से कुल्लू की दूरी – dalhousie to kullu distance

289 किलोमीटर

डलहौजी से पालमपुर की दूरी – dalhousie to palampur distance

145 किलोमीटर

डलहौजी से कांगड़ा की दूरी – dalhousie to kangra distance

119 किलोमीटर

डलहौजी हिमाचल प्रदेश फोटो गैलरी – dalhousie hill station photo gallerydalhousie free photo download Best tourist places in dalhousie Dalhousie trip by car

ऊटी तमिलनाडु में घूमने लायक जगह – ooty tourist places in hindi

ooty tourist places photosooty tourist places in hindi ऊटी दक्षिण भारत के तमिलनाडु, केरल तथा कर्नाटक राज्य से जुड़ा नीलगिरी पर्वत की आगोश में बसा एक सुंदर पर्यटन स्थल है। ऊटी का दूसरा नाम उदगमंडलम है। ऊटी को पहाड़ों की रानी क्वीन ऑफ हिल्स ( Queen of hills ) भी कहा जाता है। यह हिल स्टेशन भारत के सबसे प्रमुख हिल स्टेशनों में से एक हैं। ऊटी देशी और विदेशी पर्यटकों के लिए आकर्षण का केंद्र है। ऊटी में खूबसूरत प्राकृतिक नजारे और घने जंगल, झरने, पहाड़ों की चोटियां और दूर-दूर तक फैले चाय के बागान यहां आने वाले पर्यटकों का मन मोह लेते हैं।

Ooty tamilnadu in hindi दोस्तों आप भी कभी ऊटी घूमने जाना चाहते हैं तो इस लेख को पूरा पढ़ें इस लेख में ऊटी में घूमने लायक जगहो के बारे में संपूर्ण जानकारी दी गई है। दोस्तों यहां के आसपास के मैदान सुनहरा मौसम और शांत वातावरण पर्यटकों के लिए एक स्वर्ग सा है। दोस्तों अगर आप भी दक्षिण भारत के तमिलनाडु में ऊटी घूमने आते हैं तो आइए हम जानते हैं ऊटी के प्रमुख पर्यटन स्थलों के बारे में।

ऊटी में देखने लायक खूबसूरत जगह ऊटी झील – Ooty mein dehkne layak jagah ooty lake in hindiTop famous places in Ooty tamilnadu

ooty tourist places in hindi ऊटी झील एक कृत्रिम झील है जिसे देखना अपने आप में एक अनोखा और सुखद अनुभव है इस झील के चारों और रंग-बिरंगे फूल है यह फूल इस झील की सुंदरता के चार चांद लगाते हैं। इस झील में मोटर बोट, पेंडल बोट व रो बोट्स में बोटिंग का आनंद भी उठाया जा सकता है। ऊटी झील का बोट हाउस यहां पर आने वाले पर्यटकों के लिए मनोरंजन का मुख्य केंद्र माना जाता है। यहां पर सुबह 8:00 बजे से शाम 6:00 बजे तक यहां बोट्स (नाव) पर्यटकों के लिए किराए पर उपलब्ध रहती है। ऊटी झील के पूर्वी किनारे पर बच्चों का पार्क हैं जहां बच्चों के मनोरंजन का पूरा बंदोबस्त है। यहां पर आसपास में खाने पीने के लिए भी सुविधा है। दोस्तों इस झील में कई भारतीय फिल्मों की शूटिंग भी हुई है। आप भी अगर ऊटी घूमने आते हैं तो इस झील पर जरूर आइए।

नीलगिरी पर्वत ऊटी में रेल का नजारा – Rail view in Nilgiri mountain Ooty tamilnadu in hindiOoty toy train photo

toy train in Ooty tamilnadu नीलगिरी टॉय ट्रेन पूरे विश्व में प्रसिद्ध है यह रेल ऊटी से 46 किलोमीटर दूर पलायम की दूरी को 4 से 5 घंटे में पूरा करती है यह रेल रास्ते में आने वाली 16 सुरंगों में से होकर गुजरती है घुमावदार पहाड़ियों पर चलती ट्रेन से प्राकृतिक के रोमांचक नजारे देखने लायक होते हैं नीलगिरी की यह टॉय ट्रेन से 300 से 7000 फीट ऊंचा सफर एक यादगार सफर होता है दोस्तों आप भी कभी ऊटी में नीलगिरी पर्वत की टॉय ट्रेन में बैठना मत भूलना।

यह भी पढ़े : अल्मोड़ा हिल स्टेशन घूमने की जानकारी

ऊटी का प्रमुख पर्यटन स्थान डोडाबेट्टा चोटी – Doddabetta Peak top tourist places in ooty tamilnadu in hindi

top tourist places in Ooty tamilnadu in hindi डोडाबेट्टा की चोटी ऊटी से लगभग 8 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। डोडाबेट्टा की चोटी नीलगिरी पर्वत की सबसे ऊंची चोटी है। डोडाबेट्टा चोटी की ऊंचाई लगभग 2636 मीटर है इस चोटी के शिखर से जब हम आसपास का नजारा देखते हैं तो बहुत ही सुंदर नजारा दिखता है इस चोटी से कोयंबटूर और मैसूर शहर का खूबसूरत नजारा देखा जा सकता है यहां पर हमेशा देशी और विदेशी पर्यटकों का आना जाना रहता है।

ऊटी में घूमने लायक प्रमुख स्थान बॉटनिकल गार्डन – Top places to visit in Ooty Botanical garden in hindiBotanical garden ooty photo

Ooty tourism in hindi बॉटनिकल गार्डन ऊटी के खूबसूरत और प्रमुख पर्यटन स्थलों में से एक है बॉटनिकल गार्डन का निर्माण सन् 1847 में किया गया था। बॉटनिकल गार्डन में कई प्रकार के रंग बिरंगे फूल और पेड़ पौधे हैं जो इस गार्डन की सुंदरता के चार चांद लगाते हैं। बॉटनिकल गार्डन डोडाबेट्टा चोटी की निचली ढलानों पर बना है बॉटनिकल गार्डन का क्षेत्रफल लगभग 22 हेक्टेयर में फैला है। बॉटनिकल गार्डन में कई कार्यक्रम होते हैं जिसमें फ्लावर शो देखने लायक होता है। दोस्तों आप कभी भी ऊटी यात्रा पर आते हो तो इस गार्डन में जरूर आना।

ऊटी मे देखने लायक खूबसूरत जगह कलहट्टी झरना – kalhatty waterfalls in ooty tamilnadu in hindiWaterfall in Ooty tamilnadu

ooty tourist places in hindi ऊटी का यह कलहट्टी झरना ऊटी से लगभग 14 किलोमीटर दूर ऊटी मैसूर रोड पर स्थित है। कलहट्टी झरने की 100 फुट ऊंचाई है। यहां पर आने वाले पर्यटक इस धरने का नजारा देखकर मन मोहित हो जाते हैं कलहट्टी का यह झरना ऊटी के खूबसूरत और प्रसिद्ध झरनों में से एक है। यह जगह पिकनिक और ट्रेकिंग के लिए एक आदर्श जगह है। यहां पर हमेशा कई प्रकार के पर्वतीय पक्षी भी देखे जा सकते हैं। इस जगह पर भी हमेशा बड़ी संख्या में पर्यटक आते रहते हैं।

यह भी पढ़े : शिमला हिमाचल प्रदेश में घूमने की जानकारी

सेंट स्टीफंस चर्च ऊटी तमिलनाडु – St. Stephen’s Church in ooty tamilnadu in hindiBeautiful view of ooty tamilnadu

Ooty best tourist places ऊटी में अनेक चर्च है जिनमें से मुख्य है, सन 1829 में निर्मित नीलगिरी का सबसे प्राचीन चर्च सेंट स्टीफंस है। इसके विशाल लकड़ी के स्तंभ टीपू सुल्तान के महल से आए थे इस चर्च में एक विशाल घड़ी (क्लॉक टावर) है जो देखने लायक हैं। सेंट स्टीफंस चर्च भी ऊटी के मुख्य पर्यटन स्थानों में से एक हैं।

डॉल्फिंस नोज ऊटी तमिलनाडु – Dolphins Nose Ooty Tamilnadu in hindi

Beautiful place in Ooty ऊटी की यह खूबसूरत जगह डॉल्फिंस के नाक के आकार जैसी एक विशाल चट्टान है। यह स्थान रोचक और रोमांच पैदा करने वाला स्थान है यहां से पूरी घाटी का मनोरम दृश्य दिखाई देता है। इस जगह पर बच्चों के साथ आउटडोर पिकनिक का भरपूर आनंद उठाया जा सकता है। दोस्तों आप भी कभी अपनी ऊटी यात्रा के समय इस जगह जरूर आना।

कोटागिरी हिल ऊटी तमिलनाडु – Kotagiri hill in ooty tamilnadu in hindiOoty tamilnadu images

Ooty hills station in hindi ऊटी से लगभग 28 किलोमीटर दूर कोटागिरी हिल प्राकृतिक सुंदरता के लिए प्रसिद्ध जगह है। कोटागिरी में चाय के बागानों को देखने के लिए पर्यटक दूर-दूर से आते हैं। कोटागिरी में आगर और ऊटी से 67 किलोमीटर दूर वाइल्ड लाइफ सैकचुरी है जहां पर कई दुर्लभ प्रजातियों के पशुओं को देखा जा सकता है।

यह भी पढ़े : जम्मू में घूमने की जानकारी

ऊटी का प्रमुख पर्यटन स्थल रोज गार्डन – Ooty Ka Parmukh Paryatan Sthal Rose GardenNatural flower image

top tourist places in Ooty रोज गार्डन ऊटी के प्रमुख पर्यटक स्थलों में से एक है। रोज गार्डन की स्थापना 1995 में की गई थी रोज गार्डन लगभग 10 एकड़ में फैला हुआ खूबसूरत पर्यटक स्थान है। इस गार्डन में लगभग 20 हजार से भी अधिक प्रजातियों के फूल हैं जो यहां के वातावरण को सुगंधित रखते हैं। रोज गार्डन फोटोग्राफी और वीडियोग्राफी के लिए खूबसूरत जगह है।

मुकुर्थी राष्ट्रीय उद्यान ऊटी तमिलनाडु – mukurthi national park ooty tamilnadu in hindi

Ooty in hindi मुकुर्थी नेशनल पार्क नीलगिरी पर्वत के पश्चिम भाग में स्थित है। मुकुर्थी पार्क अपनी प्राकृतिक सुंदरता और मनोरम दृश्यों के लिए प्रसिद्ध है इस पार्क में कई वन्यजीव हैं जैसे टाइगर, हाथी, जंगली भालू, चीता और भी कई प्रकार के वन्यजीव है। यहां इस पार्क में भी पर्यटकों का आना जाना लगा रहता है।

कुनूर हिल स्टेशन ऊटी तमिलनाडु – Coonoor hill station ooty tamilnadu in hindiOoty tea garden photo

Ooty tamilnadu in hindi कुनूर ऊटी से लगभग 30 किलोमीटर दूर एक खूबसूरत और शांत हिल स्टेशन है। कुन्नूर में चाय की झाड़ियां कल-कल करते झरने और पक्षियों का शोरगुल कुनूर में आने वाले पर्यटकों को अपनी ओर आकर्षित करता है। कुनूर में नीलगिरी के वन में घूमना यहां की चाय और कॉफी के बगीचियो का दृश्य व सेंट केथरीन की शोभा मन को मोहित कर देती है। कुनूर हिल स्टेशन पर भी हमेशा पर्यटक आते रहते हैं। दोस्तों आप भी ऊटी यात्रा के दौरान कुनूर आना नहीं भूले।

यह भी पढ़े : गुलमर्ग में घूमने की जानकारी

ऊटी जाने का सही समय – Best time to visit in ooty tamilnadu in hindi

Ooty visit best time वेसे तो हम ऊटी कभी भी जा सकते हैं। और पर्यटक भी पूरे साल में हर समय ऊटी आते रहते हैं। लेकिन अप्रैल से नवंबर माह तक ऊटी जाने का सही समय माना जाता है। साल के बाकी महीनों में यहां गर्मी और बरसात का मौसम रहता है और सर्दियों के समय में यहां सर्दियां भी अधिक पड़ती है इसलिए आप ऊटी की यात्रा अप्रैल से जून और सितंबर से नवंबर तक कर सकते हैं।

ऊटी तमिलनाडु कैसे पहुंचे – How To Reach Ooty Tamilnadu In Hindi

Ooty trip in hindi ऊटी की यात्रा किसी भी रास्ते से आसानी से कर सकते हैं सड़क मार्ग, रेल मार्ग, और हवाई मार्ग इन सभी रास्तों से ऊटी आसानी से पहुंच सकते हैं। आप अपनी सुविधा के अनुसार किसी भी रास्ते से ऊटी तमिलनाडु पहुंच सकते हैं।

बस द्वारा ऊटी कैसे पहुंचे – How to reach ooty tamilnadu by bus in hindiOoty Tourism in hindi

Ooty travel guide दोस्तों आप भारत के किसी भी राज्य से बस द्वारा ऊटी की यात्रा करना चाहते हैं तो बता दें कि तमिलनाडु में स्थित ऊटी शहर देश के प्रमुख मार्गो से जुड़ा हुआ है। अगर आपको ऊटी के लिए सीधी बस नहीं मिलती है तो आप बेंगलुरु या मैसूर तक आ सकते हैं बेंगलुरु और मैसूर से ऊटी के लिए हर समय बस सुविधा उपलब्ध रहती है। इस तरह आप सड़क मार्ग द्वारा ऊटी आसानी से पहुंच सकते हैं।

रेल द्वारा ऊटी कैसे पहुंचे – How to reach ooty tamilnadu by train in hindiOoty railway station photo

दोस्तों अगर आप ऊटी की यात्रा रेल द्वारा करना चाहते हैं तो बता दें कि ऊटी का नजदीकी रेलवे स्टेशन मेट्टुपलायम (mettupalayam) है। मेट्टुपलायम से ऊटी की दूरी 40 किलोमीटर है। मेट्टुपलायम रेलवे स्टेशन भारत के प्रमुख रेलवे मार्गो से जुड़ा हुआ है। बेंगलुरु और मैसूर से हर समय मेट्टुपलायम के लिए ट्रेने आती जाती रहती है। मेट्टुपलायम पहुसने के बाद आप यहां से सरकारी या निजी बस या फिर टैक्सी द्वारा आसानी से ऊटी पहुंच सकते हैं।

यह भी पढ़े : श्रीनगर में घूमने की जानकारी

हवाई जहाज से ऊटी कैसे पहुंचे – How to reach ooty tamilnadu by airplane in hindi

दोस्तों अगर आप ऊटी तमिलनाडू की यात्रा हवाई जहाज से करना चाहते हैं तो बता दें कि ऊटी का नजदीकी हवाई अड्डा (airport) कोयंबटूर हवाई अड्डा है। जो ऊटी से लगभग 90 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। कोयंबटूर का हवाई अड्डा भारत के प्रमुख हवाई अड्डों से जुड़ा हुआ है। कोयंबटूर के लिए चेन्नई, मुंबई, बैंगलोर, अहमदाबाद और दिल्ली से नियमित रूप से उड़ाने भरी जाती है। कोयंबटूर पहुंचने के बाद आप यहां से सरकारी और निजी बसों द्वारा ऊटी आसानी से पहुंच सकते हैं। दोस्तों को ऊटी का नजदीकी अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट बेंगलुरु है जो पर्यटक विदेशों से सीधा आते हैं उनको बेंगलुरु आना होता है।

ऊटी मे कहां रुके – where to stay in ooty in hindi

ऊटी दक्षिण भारत का एक खूबसूरत हिल स्टेशन है यहां पर पूरे साल पर्यटकों का आना जाना रहता है इसलिए ऊटी में रुकने के लिए कई विकल्प है। ऊटी में पर्यटकों के ठहरने के लिए कई सस्ते और महंगे होटल उपलब्ध है जिसमें ₹1000 से लेकर ₹35000 तक होटल पर है। जो आप अपने बजट के अनुसार इन होटलों में रूम बुक करवा सकते हैं। इन सभी होटलों की सुविधा अलग अलग रहती है।

ऊटी में प्रमुख होटल – top best tourist hotels in ooty tamilnadu in hindi

होटल होलीडे इन पार्क – Hotel Holiday In Park Ooty Tamilnadu

होटल नीलगिरी – Hotel Nilgiri Ooty Tamilnadu

होटल सिल्वर – Hotel Silver Ooty Tamilnadu

होटल होलीडे इन जैम पार्क – Hotel Holiday In Jam Park Ooty tamilnadu

होटल बेरी हिल्स रिसॉर्ट – Hotel Berry Hills Resort in Ooty Tamilnadu

होटल नाहर नीलगीरी – Hotel Nahar Nilgiri Ooty Tamilnadu

यह भी पढ़े : किराडू मंदिर बाड़मेर का इतिहास

ऊटी के आसपास बड़े शहरों की दूरी – Distance to big cities around ooty tamilnadu

दोस्तों के ऊटी के आसपास कई बड़े शहर है। आइए हम जानते हैं इन शहरों से ऊटी की दूरी के बारे में

मैसूर से ऊटी की दूरी – Mysore to Ooty distance

218 किलोमीटर है
बेंगलुरु से ऊटी की दूरी – Distance from Bangalore to Ooty

331 किलोमीटर है

मेट्टुपलायम से ऊटी की दूरी – Mettupalayam to Ooty distance

40 किलोमीटर है

कोयंबटूर से ऊटी की दूरी – Coimbatore to Ooty distance

90 किलोमीटर है

तमिलनाडु से ऊटी की दूरी – Distance from Tamil Nadu to Ooty

271 किलोमीटर है

दोस्तों इस लेख मे ऊटी तमिलनाडु के बारे मे दी गई जानकारी आप को कैसी लगी यह आप कमेंट करके जरूर बताना।

ऊटी तमिलनाडु फोटो गैलरी – Ooty tamilnadu photo galleryTop Tourist places in Ooty photoOoty imagesTata tea Ooty tamilnadu

शिमला घूमने की जानकारी – shimla tourist places in hindi

shimla tourist places in hindishimla tourist places in hindi हिमाचल प्रदेश की राजधानी शिमला भारत का एक खूबसूरत हिल स्टेशन है। शिमला में अंग्रेजों के शासनकाल के दौरान बनाए गए भवनों, हिमालय पर्वत की प्राकृतिक सुन्दरता और यहां की शुद्ध हवाओं के कारण शिमला की पहचान भारत के अन्य हिल स्टेशनों से अलग है। हिमाचल प्रदेश के दक्षिणी भाग में स्थित शिमला समुद्र तल से 2160 मीटर की ऊंचाई पर स्थित हैं। देश का खूबसूरत और लोकप्रिय हिल स्टेशन होने से शिमला को पहाड़ों की रानी भी कहा जाता हैं। शिमला हर मौसम में पर्यटकों को अपनी और आकर्षित करता है। यहां की हरी-भरी पहाड़ियां, कलकल करते झरने, शांत झीलें, ऊंची-ऊंची पहाड़ों की चोटियां स्वर्ग से कम नहीं हैं। शिमला में हर वर्ष लाखों की संख्या में पर्यटक घूमने के लिए आते हैं और शिमला में आने वाले पर्यटक यहां के मनमोहक वातावरण में इतना खो जाते हैं की वापस लौटने का मन ही नहीं करता।

shimla in hindi दोस्तो आप भी भारत के हिमाचल प्रदेश राज्य की राजधानी शिमला हिल स्टेशन मे घूमना चाहते हैं तो ईस लेख को पूरा जरूर पढ़िए ईस लेख मे शिमला के प्रसिद्ध पर्यटन स्थलों के बारे मे संपूर्ण जानकारी दी गई है। जैसे शिमला का इतिहास, शिमला की यात्रा कैसे करें, शिमला की यात्रा के दौरान क्या देखें, शिमला में घूमने के लिए सबसे अच्छी जगह, शिमला का स्थानीय भोजन क्या है, और शिमला की यात्रा के दौरान कहा ठहरे।

शिमला का इतिहास – shimla history in hindi

shimla tourist places in hindi भारत का प्रसिद्ध हिल स्टेशन शिमला ब्रिटिश राज में भारत की ग्रीष्मकालीन राजधानी हुआ करता था। उससे पहले शिमला नेपाल के महाराजा के अधीन था। मगर बाद में अंग्रेज़ों ने शिमला पर अपना अधिकार जमा लिया। सन 1819 में सबसे पहले लेफ्टिनेंट रोज ने यहां एक छोटा सा घर बनाया फिर मेजर कैनेडी ने भी यहां अपनी कोठी बनाई। इसके बाद तो यहां एक के बाद एक मकान बनने लगे और समय के साथ शिमला का विस्तार होता गया और सन 1971 में हिमाचल प्रदेश के गठन के बाद शिमला को हिमाचल प्रदेश की राजधानी के रूप मे जाना जाने लगा। आज के समय में पहाड़ों की रानी’ शिमला हिमाचल प्रदेश में देसी और विदेशी पर्यटकों का आना जाना लगा रहता हैं।best places in shimla

शिमला में घूमने लायक जगह मॉल रोड – places to visit in shimla mall road in hindi

places to visit in shimla मॉल रोड शिमला का केंद्र में स्थित है। यहां पर शानदार ढंग से सजी दुकानों से आप अपनी पसंद के चीजें खरीद सकते हैं। यहां पर पर्यटकों का हर समय तांता लगा रहता है। मॉल रोड को वाहनों के शोर और भीड़ से बचाने के लिए कार्टरोड से मॉल रोड तक आने जाने के लिए लिफ्ट लगाई गई है। मॉल रोड से पूरे शिमला का खूबसूरत नजारा देखने लायक है। इसके अलावा मॉल रोड के बीचों-बीच बनी छतरी भी देखने लायक है। दोस्तो आप शिमला की यात्रा के दौरान खरीदारी करना चाहते हैं तो मॉल रोड अच्छा विकल्प है।Mall road shimla

शिमला में घूमने लायक खुबसुरत जगह रिज शिमला – Beautiful place to visit in shimla ridge shimla in hindi

best places to visit in shimla यह जगह शिमला की सबसे खूबसूरत जगह में से एक है। रिज शिमला से बर्फ से ढकी पर्वत श्रृंखलाओं के शानदार नजारे देखने लायक है। रिज शिमला में कई तरह के सरकारी समारोह और मेलों का आयोजन होता है इनके अलावा रिज शिमला में सबसे प्रसिद्ध त्योहार ग्रीष्मकालीन त्योहार होता है। रिज शिमला मॉल रोड के पास में ही स्थित हैं। दोस्तों आप भी शिमला की यात्रा के दौरान इस जगह पर जरूर जाएं।

यह भी पढ़े – जम्मू में घूमने की जानकारी

शिमला के दर्शनीय स्थल क्राइस्ट चर्च – christ church shimla in hindi

shimla famous places क्राइस्ट चर्च शिमला का लोकप्रिय और प्रसिद्ध दर्शनीय स्थल है। इस चर्च का निर्माण सन् 1857 में किया गया था जिसके वास्तु चमत्कार को पूरा करने में लगभग 3 साल का समय लगा था। उत्तर भारत के चर्चों में यह दूसरा सर्वाधिक पुराना चर्च है। रात्रि में यह चर्च बेहद खूबसूरत दिखाई देता है। यहां पर भारतीय फिल्मों की शूटिंग भी होती रहती हैं। क्राइस्ट चर्च शिमला की एक बहुत ही लोकप्रिय जगह होने से पर्यटकों की भीड़ रहती है। दोस्तों आप भी कभी शिमला घूमने जाते हैं तो इस जगह पर जरूर जाए।christ church shimla

शिमला में घूमने वाली जगह गेयटी थिएटर – Gaiety theater places to visit in shimla in hindi

places to see in shimla शिमला के मॉल रोड पर स्थित गेयटी थिएटर शिमला की सर्वाधिक चर्चित इमारत है। गेयटी थिएटर का निर्माण सन् 1887 में हुआ था। यह थिएटर लंदन के मशहूर अलब्रेट हॉल की तर्ज पर बना हुआ है। यहां अनेक चर्चित नाटकों का मंचन हो चुका है। गेयटी थिएटर वास्तुकला का भी अद्भुत नमूना है। दोस्तो आप भी कभी पहाड़ों की रानी शिमला में घूमने जाते हैं तो गेयटी थिएटर देखना ना भूलें।Gaiety theater places photo

शिमला का लोकप्रिय पर्यटन स्थल जाखू हिल – Jakhoo hill popular tourist destination in Shimla 

best places to visit in shimla जाखू हिल शिमला का सबसे लम्बा पहाड़ है। शिमला से जाखू हिल की दूरी लगभग 2 किलोमिटर है। जाखू हिल के एक तरफ से पूरे शिमला शहर का भव्य नजारा नजर आता है तो दूसरी तरफ बर्फ से ढके हिमालय पर्वत श्रृंखलाओं की भव्य सुंदरता दिखाई देती है। जाखू हिल समुद्र तल से 8000 फीट की ऊंचाई पर स्थित हैं। जाखू हिल तक पहुंचने के लिए सीधी चढ़ाई चढ़नी पड़ती है। वैसे जो लोग अपने वाहन द्वारा इस पहाड़ी पर पहुंचना चाहते हैं, उन्हें 5 किलोमीटर का सफर सड़क मार्ग से तय करना पड़ता है। यहां पर हनुमान जी का एक प्राचीन मंदिर है। यह मंदिर शिमला के प्रमुख दर्शनीय स्थलों में से एक है। इस मंदिर के आस पास बहुत से बंदर हैं। यदि यहां बंदर आपको चैन से बैठने दें तो आप यहां से घंटों तक शिमला शहर के खूबसूरत सौंदर्य का नजारा देख सकते हैं। दोस्तों आप भी कभी शिमला की यात्रा पर जाते हैं तो इस पहाड़ पर जरूर जाए।Hanuman temple Jakhoo hill shimla

शिमला में घूमने लायक आकर्षक स्थान चाडविक जलप्रपात – Attractive places to visit in shimla chadwick falls

top tourist places in shimla शिमला का चाडविक जलप्रपात लोकप्रिय और प्रसिद्ध है। 67 मीटर की ऊंचाई से नीचे गिरते पानी को देखने का आनंद ही अलग है। घने जंगल में फूलों की सुगंध, और हवादार जलवायु एक अनोखी छटा बिखेरता है। बरसात में तो यह झरना अपने पूरे शबाब पर होता है। आसपास के हरे-भरे जंगलों में ट्रैकिंग भी की जा सकती है। दोस्तों आप भी कभी हिमाचल प्रदेश की राजधानी शिमला हिल स्टेशन घूमने के लिए जाते हैं तो इस जलप्रपात को देखने के लिए जरूर जाए।

यह भी पढ़े – अल्मोड़ा हिल स्टेशन घूमने की जानकारी

शिमला में घूमने लायक प्रसिद्ध जगह कुफरी – shimala mein ghoomane laayak prasiddh jagah kuphari

shimla tourism in hindi कुफरी शिमला से लगभग 15 किलोमीटर की दूरी पर स्थित एक अत्यंत सुंदर स्थान है। जो यहां पर आने वाले पर्यटकों को बेहद आकर्षित करती है। कुफरी में फरवरी और मार्च में होने वाले खेल एवं उत्सव देखने लायक होता है। स्कीइंग के शौकीन पर्यटकों के लिए कुफरी बहुत ही खूबसूरत जगह है। गर्मियों के मौसम में यहां याक का सवारी करने का अलग ही मजा है। यहां हिमालयन वाइल्ड लाइफ चिड़ियाघर है। कई प्रजाति के पक्षी देखे जा सकते हैं। सर्दियों के मौसम में कुफरी में स्कीइंग करने का अलग ही मजा है। दोस्तों आप भी शिमला यात्रा के दौरान इस जगह पर जरूर जाए।Kufri shimla tourist places

शिमला के दर्शनीय स्थल कामना देवी – shimla ke darshniya sthal kamna devi mandir

top temple in shimla शिमला से 5 किलोमिटर दूर प्रॉस्पेक्ट हिल पर स्थित कामना देवी मंदिर काली देवी को समर्पित एक पवित्र स्थान है। इस मंदिर में देश भर से बड़ी संख्या में श्रद्धालु दर्शन करने आते हैं। यहां से डूबते सूर्य और निकलते चांद का खूबसूरत नजारा यहां पर आने वाले पर्यटकों को अपनी ओर आकर्षित करता है। और यहां पर आसपास का नजारा पर्यटकों को मनमोहित कर देता है। पौराणिक कथाओं के अनुसार ऐसा माना जाता है कि शिमला आने वाले हर व्यक्ति को इस मंदिर की यात्रा अवश्य करनी चाहिए क्योंकि लोगों का कहना है कि मां काली देवी अपने सभी भक्तों की इच्छाओं को पूरा करती हैं। दोस्तों आप भी अपनी शिमला यात्रा के दौरान कामना देवी मंदिर में दर्शन करने जरुर जाए।Kamna Devi temple Shimla

शिमला में देखने वाली जगह नालदेहरा – shimla mein dekhne ghumne layak jagah naldehra

places to visit near shimla नालदेहरा शिमला से 23 किलोमिटर दूर एक खूबसूरत हिल स्टेशन है। नालदेहरा ब्रिटिश शासन की स्मृतियां संजोए यह स्थल गोल्फ के मैदानों के लिए प्रसिद्ध है। देवदार के घने पेड़ और यहाँ की शानदार हरियाली नालदेहरा के वातावरण को बेहद आकर्षक बनाती है। जो यहां पर आने वाले पर्यटकों को मनमोहित कर देता हैं। यहां पर सूर्योदय और सूर्यास्त का खूबसूरत नजारा देखने लायक होता है। 

यह भी पढ़े – गुलमर्ग में घूमने की जानकारी

शिमला का खूबसूरत नारकंडा हिल स्टेशन – narkanda hill station in shimla tourist places in hindi

shimla tourist places in hindi शिमला से 65 किलोमीटर की दूरी पर स्थित नारकंडा बहुत खूबसूरत हिल स्टेशन है। यहां जनवरी से मार्च महीने के दौरान पर्यटन विकास निगम द्वारा स्कीइंग का प्रशिक्षण कोर्स चलाया जाता है। नारकंडा सर्दियों में स्कीइंग के लिए प्रसिद्ध जगह है। नारकंडा का मौसम साल के 12 महीने ठंडा रहता है यहां जून जुलाई के महीने ठंडी हवाएं बहुत शानदार अनुभव कराती है। नारकंडा से बर्फ से ढका हिमालय पर्वत बेहद आकर्षक व मनमोहक दिखाई देता। नारकंडा हिल स्टेशन पर साल भर पर्यटक आते रहते हैं। दोस्तों आप भी अपनी शिमला यात्रा के दौरान इस जगह पर घूमने जरूर जाएं।narkanda hill station in shimla tourist places

शिमला में घूमने लायक जगह ग्लेन जंगल – glen jungle places to visit in shimla in hindi

best tourist places in shimla ग्लेन जंगल एक प्रसिद्ध पिकनिक स्थल माना जाता है। रिज मैदान से ग्लेन मात्र 4 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। जंगल की कलकल बहती नदी यहां के वातावरण को संगीतमय बनाती है। पर्यटक यहाँ बैठ कर उसका आनंद लेते हैं। यहा भीड़भाड़ से दूर एकांत पाने के लिए सैलानी आते हैं। ग्लेन से आगे एक खुला मैदान है। पहाड़ों में इस प्रकार के मैदान बहुत कम होते हैं। यह मैदान देवदार के जंगलों से घिरा हुआ है। दोस्तों आप भी कभी शिमला घूमने जाते हैं तो इस जगह पर जरूर जाए।glen jungle places shimla

शिमला का ऐतिहासिक राज्य संग्रहालय – Historical state museum of shimla tourist places in hindi

places to visit near shimla इस संग्रहालय में राज्य की ऐतिहासिक मूर्तिकलाओं, चित्रकलाओं, सिक्कों और इतिहास से संबंधित वस्तुओं का संग्रह किया गया है। इस संग्रहालय का निर्माण सन् 1974 में हुआ था। इस संग्रहालय निर्माण सांस्कृतिक समृद्धि को संरक्षित करने और अतीत को दर्ज करने के लिए किया गया था। यह संग्रहालय पहाड़ी की चोटी पर ब्रिटिश शासनकाल में बने एक भवन में है। यह संग्रहालय सोमवार और राजपत्रित छुट्टियों को छोड़कर हर रोज खुला रहता है। दोस्तों आप कभी शिमला घूमने जाते तो इस संग्रहालय को देखने के लिए जरूर जाएं।

यह भी पढ़े – श्रीनगर में घूमने की जानकारी

चैल हिल स्टेशन शिमला – Chail hill station shimla in hindi

shimla hill station in hindi शिमला से 45 किलोमीटर दूर चैल हिल स्टेशन बहुत ही खूबसूरत जगह है। चैल हिल स्टेशन समुद्र तल से 2250 मीटर की ऊंचाई पर स्थित चैल हिल स्टेशन तीन पहाड़ों, पढ़ावा, राजगढ़ और सिद्ध टिब्बा पर बसा है यहां सन् 1891 में बना पटियाला के महाराज भूपिंदर सिंह का गर्मियों का निवास ‘समर पैलेस’ है, सन् 1893 में पटियाला के महाराजा द्वारा बनवाया गया था। यहां पर दुनिया का सबसे ऊंचा क्रिकेट मैदान है। यह प्रेरकों के लिए बेहद शानदार जगह है। दोस्तों शिमला यात्रा के दौरान चैल हिल स्टेशन घूमने जरूर जाएं।

शिमला में घूमने लायक सुंदर जगह समर हिल – summer Hill beautiful place to visit in shimla in hindi

shimla hill station in hindi समर हिल समुद्र तल से 1283 मीटर की ऊँचाई पर स्थित है। यहां तारा देवी का एक मंदिर है, जो दर्शनीय है। इस पहाड़ी पर हिमालच प्रदेश विश्वविद्यालय है तथा उसके निकट ही प्राचीन तथा भव्य इमारत ‘मैनर विले’ है। राजकुमारी अमृत कौर का निवास रहा यह भवन आज ‘ऑल इंडिया इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल सांइस’ का गेस्ट हाउस है। समर हिल की घाटियों और चारों ओर फैली प्राकृतिक सुंदरता को देखने के लिए देशी और विदेशी पर्यटक आते रहते हैं। दोस्तों आप भी शिमला यात्रा के दौरान समर हिल देखना ना भूलें।

यह भी पढ़े – किराडू मंदिर बाड़मेर का इतिहास

वाईसरीगल लॉज और बॉटनिकल गार्डन शिमला – Viceregal lodge and Botanical garden shimla in hindi

places to see in shimla वाईसरीगल लॉज एक पहाड़ी पर बना है। जो भारत की सबसे प्रभावशाली और ऐतिहासिक ब्रिटिश युग की इमारतों में से एक है। इस भव्य भवन में कभी ब्रिटिश वायसरॉय लाई डफरिन रहा करते थे। इस लॉज में अब इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ एडवांस स्टडी का कार्यालय है। वाईसरीगल लॉज को वायसरॉय लॉज के नाम से भी जाना जाता हैं। चारो ओर हरियाली से घिरा वाईसरीगल लॉज शिमला का लोकप्रिय पर्यटन स्थल है। यहां पर देशी और विदेशी पर्यटकों का आना जाना लगा रहता हैं। दोस्तो कभी शिमला घूमने जाते हैं तो इस जगह पर जरूर जाएं।Viceregal lodge shimla

टॉय ट्रेन शिमला – Toy train in shimla himachal pradesh in hindi

shimla toy train कालका और शिमला के बिच चलने वाली टॉय ट्रेन में सफर करने का अलग ही आनंद है। जब यह टॉय ट्रेन लम्बी लम्बी गुफाओं और टेढ़े-मेढ़े मोड़ों से होकर गुजरती है, तो आप रोमाचित हुए बिना नहीं रह सकते। दोस्तों आप भी कभी शिमला घूमने जाते हैं तो इस टॉय ट्रेन में सफर जरूर करे।toy train in shimla

शिमला में घूमने लायक जगह तत्तापानी – Tattapani places to visit in shimla in hindi

top best tourist places in shimla शिमला से 50 किलोमीटर दूरी पर स्थित तत्तापानी में झुरमुटों से घिरा गंधक के गर्म पानी का स्रोत है। यहां पर गर्म पानी के बुलबुले निकलते हैं। तत्तापानी शब्द का मतलब गर्म पानी होता है इस लिए यह स्थान तत्तापानी के नाम से मशहूर है। यहां पर्यटक सार्वजनिक निर्माण विभाग के विश्राम गृह में ठहर सकते हैं। यहां आस पास प्राक्रतिक सुंदरता का मनमोहक नजारा देखने लायक है। दोस्तो आप शिमला घूमने जाते हैं तो इस जगह पर जरूर जाएं।

यह भी पढ़े – अहमदाबाद मे घूमने की जानकारी

शिमला घूमने जाने का सही समय – Best time to visit in shimla himachal pradesh in hindi

best time to visit shimla in hindi दोस्तों वैसे तो आप शिमला हिमाचल प्रदेश में घूमने का प्रोग्राम साल के किसी भी महीने में बना सकते हैं। शिमला का मौसम सालभर सुखद रहता है। लेकिन नवंबर से फरवरी माह में शिमला घूमने का सबसे अच्छा समय माना जाता हैं। इस समय शिमला में बर्फ का शानदार नजारा देखने लायक होता है। मार्च से जून तक शिमला का तापमान 20 डिग्री सेल्सियस के आसपास रहता है। दोस्तो अगर आप देश के ज्यादा गर्मी वाली जगह पर रहते हैं तो गर्मियों से बचने के लिए मार्च और जून के महीने मे शिमला की यात्रा कर सकते।top places to visit in shimla

शिमला घूमने कैसे जाएं – how to visit shimla in hindi

queen of hill shimla दोस्तो आप पहाड़ों की रानी शिमला हिमाचल प्रदेश में घूमने की यात्रा करना चाहते हैं तो बता दें कि शिमला भारत के विभिन्न शहरों से अच्छी तरह जुड़ा हुआ है। शिमला मे आप सड़क मार्ग, रेल मार्ग और हवाई मार्ग से आसानी से पहुंच सकते हैं।

बस से शिमला घूमने केसे जायें – shimla trip by Bus in hindi

shimla travel places दोस्तों आप भारत मे किसी भी शहर में रहते हैं और बस द्वारा सड़क मार्ग से शिमला हिमाचल प्रदेश की यात्रा करना चाहते हो तो बता दें कि शिमला देश के सभी प्रमुख सड़क मार्गो से अच्छी तरह जुड़ा हुआ है। देश के बड़े शहर दिल्ली,पंजाब, हरियाणा, राजस्थान और भी पड़ोसी राज्य से शिमला के लिए प्रतिदिन बसों का आवागमन रहता है।आप देश के किसी भी हिस्से से सड़क मार्ग द्वारा शिमला आसानी से पहुंच सकते हैं।best time to visit shimla

ट्रेन द्वारा शिमला घूमने कैसे पहुंचे – How to reach shimla by train in hindi

shimla trip by train दोस्तों अगर आप ट्रेन द्वारा शिमला हिमाचल प्रदेश की यात्रा करना चाहते हैं तो बता दे कि शिमला में एक छोटा रेलवे स्टेशन है जो कालका से जुड़ा हुआ है। आप देश के किसी भी हिस्से से शिमला घूमने जाते हैं तो शिमला का नजदीकि रेलवे स्टेशन कालका है जो भारत के प्रमुख शहरों से अच्छी तरह जुड़ा हुआ है। कालका के लिए दिल्ली, पंजाब, हरियाणा, जोधपुर, जयपुर जैसे शहरों से कालका के लिए हमेशा ट्रेनों का आवागमन रहता है। आप देश के किसी भी हिस्से से ट्रेन द्वारा कालका आसानी से पहुंच सकते हैं। कालका रेलवे स्टेशन पहुंचने के बाद आप शिमला के लिए टॉय ट्रेन और स्थनीय वाहनों द्वारा आसानी से शिमला पहुंच सकते हैं।

हवाई जहाज से शिमला घूमने कैसे पहुंचे – How to reach shimla by airplane in hindi

shimla airport दोस्तों अगर आप शिमला हिमाचल प्रदेश की यात्रा हवाई जहाज से करना चाहते हैं तो बता दें कि शिमला का नजदीकि एयरपोर्ट जुब्बड़हट्टी हैं। Jubbarhatti airport शिमला से जुब्बड़हट्टी की दूरी लगभग 24 किलोमिटर है। जुब्बड़हट्टी में नियमित रूप से फ्लाइट का आवागमन रहता है। आप देश के किसी भी शहर से जुब्बड़हट्टी आसानी से पहुंच सकते हैं। यहां से आप निजी वाहनों द्वारा आसानी से शिमला पहुंच सकते हैं।

शिमला की यात्रा के दौरान कहां ठहरें – Where to stay during your trip to Shimla in hindi

top tourist hotels in shimla दोस्तों आप अगर शिमला घूमने आते हैं और यहां ठहरना चाहते हैं तो बता दे की शिमला, हिमाचल प्रदेश का सबसे खूबसूरत हिल स्टेशन है। और यहां पर अधिक संख्या में पर्यटक घूमने आते रहते हैं। इस लिए शिमला में कई सस्ती और महंगी होटल मौजूद है। जिसमें आप अपने बजट के अनुसार किसी भी होटल में ठहर सकते हैं। होटल में ऑनलाइन और ऑफलाइन बुक कर सकते हैं।Top tourist hotels in shimla

शिमला के नजदीक शहरो की दूरी – Distance of cities near shimla in hindi

शिमला से कालका की दूरी – Shimla to kalka distance

84 किलोमीटर

शिमला से नालदेहरा की दूरी – Shimla to naldehra distance

22 किलोमीटर

शिमला से मनाली की दूरी – shimla to manali distance

246 किलोमीटर

शिमला से कुल्लू की दूरी – Shimla to kullu distance

206 किलोमीटर

शिमला से डलहौजी की दूरी – Shimla to dalhousie distance

326 किलोमीटर

शिमला से धर्मशाला की दूरी – Distance from shimla to dharamshala

234 किलोमीटर

शिमला से चंडीगढ़ की दूरी – Shimla to chandigarh distance

110 किलोमीटर

शिमला से दिल्ली की दूरी – Distance from shimla to delhi

419 किलोमीटर

शिमला हिमाचल प्रदेश फोटो गैलरी – Shimla Himachal Pradesh Photo GalleryShimla tourist places photo galleryTop temple in shimla

किराडू मंदिर का इतिहास और कहानी – kiradu temple history in hindi

0

Someswar mandir kiradukiradu temple history in hindi भारत में ऐसी कई रहस्यमयी जगह है जिनके खौफनाक रहस्य के बारे में सुनकर लोग चौक जाते हैं। जिनका रहस्य पुरानी सदियों से जुड़ा हुआ है। राजा महाराजाओं के पुराने किले हो या मंदिर हो भारत में ऐसी कई रहस्यमई जगह है। जिसके बारे में आज तक कोई नहीं जान पाया। ऐसी ही एक रहस्यमयी जगह भारत में राजस्थान राज्य के बाड़मेर जिले में किराडू के मंदिर है। किराडू मंदिर जो अपने आप में कई पुराने रहस्य समेटे बैठा है।

haunted places kiradu in hindi किराडू एक ऐसा रहस्य से भरा पड़ा है जिसका इतिहास पूरी तरह से कोई नहीं जान पाया है। यहां के स्थानीय लोगों का कहना है, कि शाम होने के बाद अगर किराडू में कोई इंसान ठहर जाता है तो वह पत्थर बन जाता है। किराड़ू के मंदिर अपनी स्थापत्य कला और बेजोड़ नक्काशी के लिए प्रसिद्ध है। इस लिऐ किराड़ू को राजस्थान का खजुराहो कहा जाता है।

Kiradu temple in hindi दोस्तो आप भी बाड़मेर के किराडू मंदिर का इतिहास के बारे में जानना चाहते हैं तो ईस लेख को पूरा जरूर पढ़िए ईस लेख मे किराडू के मंदिरों से जुड़ी संपूर्ण जानकारी दी गई है। जैसे किराडू मंदिर बाड़मेर का इतिहास, किराडू मंदिरों को श्राप किसने दिया, किराडू में रात रुकने से क्या होता है और किराडू मंदिर बाड़मेर देखने कैसे जाएं।Kiradu Mandir ine Hindi

किराडू मंदिर का रहस्य – kiradu temple mystery in hindi

Kiradu ke mandir राजस्थान की धरती इतिहास में हमेशा आगे रहती है। यहां की संस्कृति और यहां के मनोरम पर्यटक स्थल। पर्यटकों को अपनी ओर आकर्षित करते है। आज हम बात कर रहे हैं राजस्थान के बाड़मेर जिले में स्थित किराडू की। थार के रेगिस्तान में बसा बाड़मेर शहर अपने आप में बहुत ही खूबसूरत है। और बाड़मेर से थोड़ी दूरी पर एक ऐसी जगह है जहां लोग जाना भी चाहते हैं लेकिन डर भी लगता है। वह जगह है किराडू के मंदिर। किराडू के दोनों और पहाड़ियां हैं जिस पर माता सच्चियाय का मंदिर है। यहां पर दिन में जितनी शांति रहती है तो रात में उतनी ही खामोशी सिरहन पैदा करती है। किराडू कि यह जगह कई सालों से गुमनाम थी। लेकिन अब लोगों तक किराडू के बारे में इंटरनेट के जरिए सूचनाएं मिलती रहती है। kiradu temple यह स्थान धीरे-धीरे पर्यटक स्थल में बदल रहा है। किराडू मंदिरों के बारे मे आज तक कोई सही से नहीं जान पाया लेकिन पुराने जमाने के हिसाब से कोई साधु के श्राप की बात करता है। तो कोई विदेशी लुटेरों के बारे में कोई यहां का पक्का सबूत नहीं है। किराडू का असली इतिहास क्या है आज तक किसी को नहीं पता।Kiradu mandir ka itihaas

किराडू मंदिर बाड़मेर का इतिहास – kiradu temple history in hindi

Kiradu mandir ka itihaas in hindi किराडू राजस्थान के बाड़मेर जिले से 39 किलोमीटर दूर हाथमा गांव में एक ऐसी विरान नगरी है, जिसका खौफनाक रहस्य से लोग चौक जाते हैं। किराडू में 5 मंदिरों का समूह है जो कई सदियों पुराना है। किराडू के इन मंदिरों का निर्माण किसने करवाया इसके बारे में आज तक कोई पक्का सबूत नहीं मिला यहां पर कुछ शिलालेख हैं। जिसमें भी इन मंदिरों के निर्माण के बारे में कोई जानकारी नहीं है। किराडू में स्थित एक शिलालेख के अनुसार कहा जाता है। किराडू 11-12 वीं शताब्दी में एक समृद्ध नगरी हुआ करती थी। यहा के परमार एवं चौहान शासक गुजरात के सोलंकी राजाओं के अधीन थे। विदेशी आक्रांताओं के फलस्वरुप यह नगरी उजड़ गई। इस किराडू नगरी में 11वीं शताब्दी में अनेक भव्य मंदिरों के निर्माण हुए थे जो आज भी हमारे प्राचीन गौरव के प्रतीक हैं। वर्तमान में मरु गुर्जर शैली के मात्र 5 शेव-वैष्णव मंदिरों के भग्नावशेष ही अवशिष्ठ है। इनमें से सोमेश्वर मंदिर सर्वाधिक अनूठा है। गर्भगृह। अंतराल। महामंडप। तथा द्वारमंडप कक्षाओ से युक्त यह मंदिर विभिन्न कलापूर्ण ।अभीव्यक्तियों। प्रतिमाओं आदि से अलंकृत है। यह इतिहास यहां पर एक लेख से पता चलता है। लेकिन यहां के स्थानीय लोगों का कहना है यहा एक साधु के श्राप के कारण पूरी नगरी उजड़ गई थी।Kiradu Mandir photo gallery

किराडू मंदिर को को श्राप किसने दिया – Kiradu temple curse in hindi

kiradu mandir ka rahasya in hindi कहा जाता है कई सालों पहले किराडू नगरी में एक साधु महात्मा आए थे उनके साथ उनके शिष्य भी थे। जिस समय किराडू नगरी हरी-भरी हुआ करती थी। साधु एक दिन शिष्यों को किराडू में ही छोड़कर भ्रमण पर निकल पड़े साधु के जाने के बाद कुछ समय बाद किराडू में बीमारी फैल गई जिसके चलते लोगों का जीवन अस्त-व्यस्त हो गया। उस समय साधु के शिष्य भी बीमार पड़ गए उन शिष्यों की देखभाल एक कुम्हारिन महिला के अलावा इन पर किसी ने भी ध्यान नहीं दिया और उस समय साधु महात्मा वापस लौट कर आए तो शिष्यों की बुरी हालत देखकर साधु महात्मा क्रोधित हो उठे। इसके बाद साधु ने कहा जिस स्थान पर दया भाव नहीं होता वहां पर मानव जाति को होना नहीं चाहिए यहां पर सब पत्थर दिल लोग हैं। साधु महात्मा ने पूरे नगर वासियों को पत्थर बन जाने का श्राप दे दिया। लेकिन जिस कुम्हारिन महिला ने शिष्यों की देखभाल की थी उसको साधु ने कहा तुम आज शाम होने से पहले यह जगह छोड़कर कहीं और चली जाओ नहीं तो तुम भी पत्थर की बन जाओगी और यहां से जाते समय पीछे मुड़कर मत देखना। और शाम होने से पहले वह महिला वहां से चल पड़ी लेकिन थोड़ी दूर जाने के बाद उस महिला को मन में कुछ शंका हुई और उसने वापस मुड़कर देखा और उसी समय वह जिस जगह पर थी वहीं पर पत्थर बन गई। साधु के इस श्राप के कारण आज तक यह जगह वीरान पड़ी है।Kiradu mandir ka shilalekh photo

यह भी पढ़े : कुलधरा गांव की कहानी

किराडू मंदिर की वास्तुकला – Architecture of kiradu temple in hindi kiradu Mandir dekhne kab

किराडू में 5 मंदिरो का समूह है। जो पौराणिक समय में की गई कारीगरी का बेजोड़ नमूना है। किराडू के इन मंदिरों के हर हिस्से में देवी देवताओं की मूर्तियां उकेरी हुई है। किराडू मंदिर में की गई जटिल नक्काशी और कारीगरी एक आधुनिक इतिहास का नमूना है। जिसे देख कर आश्चर्य होता है कि पुराने समय में कम संसाधन होते हुए भी ऐसी जटिल नक्काशी कैसे संभव थी। Kiradu temple architecture

राजस्थान के खजुराहो – Rajasthan ke khajuraho kiradu temple history in hindi

kiradu temple in hindi किराडू के इन मंदिरों की नक्काशी और कारीगरी देखकर भारत के मध्य प्रदेश में स्थित खजुराहो के मंदिर की याद आती है। लेकिन किराडू के यह मंदिर भी खजुराहो से कम नहीं है। भले ही खजुराहो जैसी लोकप्रियता किराडू के मंदिरों को नहीं मिल पाई लेकिन अपने बिखरे हुए साम्राज्य की मौजूदगी का एहसास जरूर कराता है। khajuraho in hindi राजस्थान में अगर कोई खजुराहो जैसा कोई मंदिर है तो यह किराडू ही है। वैसे तो किराडू को राजस्थान का खजुराहो कहा जाता है।Rajasthan ke Khajuraho

किराडू मंदिर बाड़मेर का उजड़ा हुआ दृश्य – kiradu temple barmer rajasthan history in hindi

kiradu temple history in hindi किराडू की इस वीरान जगह पर जाने के बाद यहां पर बिखरे पत्थर और मंदिरों के अवशेष मंदिरों के गुंबद खंबे जिस पर बड़ी मेहनत और कारीगरी की गई हैं। इन पत्थरों की नक्काशी इतनी बारीकी से की गई हुई है जिसे देखकर आश्चर्य होता है किराडू का ऐसा बिखरा हुआ साम्राज्य देखकर मन दुखी हो उठता है।

यह भी पढ़े : पटनीटॉप में घूमने की जगह

किराडू मंदिर खंडहर क्यों है – haunted places kiradu temple in hindi

kiradu mandir in hindi किराडू के मंदिर खंडहर क्यों हैं इसके बारे में तो पक्का सबूत तो किसी के पास भी नहीं है लेकिन राजस्थान के कुछ इतिहास के अनुसार यहां पर विदेशी लुटेरों ने मंदिरों को तोड़कर खजाना लूट कर ले गए और धीरे-धीरे समय बीतता गया और बाद में भूकंप के कारण मंदिर और भी खंडहर होते गए।Raat mein kiradu mandiron mein rukne se kya hota hai

किराडू मंदिर में क्या देखें – Kiradu ke mandir me kya dekhe

haunted places kiradu temple in hindi किराडू में देखने के लिए यहां पर पांच मंदिर है जो खंडहर अवस्था में है। इनमें से एक मंदिर सोमेश्वर मंदिर और विष्णु मंदिर थोड़ा ठीक हालत में है। सोमेश्वर मंदिर के अंदर का भाग देखकर भारत के दक्षिण में स्थित मीनाक्षी मंदिर की याद दिलाता है और बाहर से खजुराहो के मंदिरों की झलक दिखती है। यहां पर 3 मंदिर और भी है जो लगभग खंडहर की स्थिति में है।

यह भी पढ़े : गुलमर्ग में घूमने लायक स्थान

किराडू मंदिर कहां पर है – Where is Kiradu Temple

kiradu temple story in hindi किराडू के इस रहस्यमई जगह को देखना हर कोई चाहता है लेकिन किराडू कैसे जाएं यह सवाल हर किसी के मन में आता है। किराडू भारत के राजस्थान राज्य में बाड़मेर जिले से लगभग 42 किलोमीटर दूर बाड़मेर मुनाबाव राष्ट्रीय राजमार्ग 25 पर हात्मा गांव के पास स्थित है।Top tourist palace in Barmer Rajasthan

किराडू मंदिर देखने का टाइम टेबल – kiradu temple timing in hindi

kiradu mandir ka timing किराडू पर्यटक स्थल खुलने का समय सुबह 9:00 बजे से शाम 6:00 बजे तक रहता है। शाम 6:00 बजे के बाद गेट बंद करके सब यहां से चले जाते हैं रात्रि में यहा कोई नहीं रुकता।

किराडू मंदिर विडियो देखिए

किराडू मंदिर प्रवेश शुल्क – kiradu temple entry fees in hindi

किराडू में पर्यटक प्रवेश शुल्क अलग-अलग है।

भारतीय पर्यटक ₹50 प्रत्येक व्यक्ति है

भारतीय विद्यार्थी पर्यटक ₹20

विदेशी पर्यटक ₹200

विदेशी विद्यार्थी पर्यटक ₹50kiradu temple mystery in hindi

किराडू मंदिर बाड़मेर की यात्रा करने का सबसे अच्छा समय – Best time to visit in kiradu temple barmer rajasthan in hindi

Top famous temple in barmer वैसे तो आप किराडू मंदिर देखने बाड़मेर की यात्रा कभी भी कर सकते हैं लेकिन यहां आने का सही समय अक्टूबर से लेकर मार्च तक सही रहता है। क्योंकि गर्मियों के दिनों में राजस्थान के इस रेगिस्तान इलाके में जबरदस्त गर्मी पड़ती है। सर्दियों मे यहां पर देसी और विदेशी पर्यटकों का आना जाना लगा रहता हैं।Kiradu Mandir dekhne kab jaen

किराडू मंदिर बाड़मेर कैसे पहुंचे – How to reach Kiradu Temple Barmer

Kiradu temple barmer rajasthan दोस्तो आप किराडू मंदिर देखने बाड़मेर की यात्रा करना चाहते है तो बता दे कि किराडू मंदिर देखने के लिए सबसे पहले हमें राजस्थान के बाड़मेर शहर पहुंचना होता है। बाड़मेर शहर भारत के विभिन्न शहरों से अच्छी तरह जुड़ा हुआ है। यहां पर आप सड़क मार्ग, रेल मार्ग और हवाई मार्ग से आसानी से पहुंच सकते हैं। किराडू मंदिर, बाड़मेर मुख्य शहर से लगभग 39 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। बाड़मेर शहर पहुंचने के बाद आप बस, टैक्सी या फिर बाइक से किराडू मंदिर आसानी से पहुंच सकते हैं।

यह भी पढ़े : अहमदाबाद में घूमने लायक स्थान

बस द्वारा किराडू मंदिर बाड़मेर केसे जायें – How to get to Kiradu Temple Barmer by Bus

kiradu temple history in hindi दोस्तों आप भारत मे किसी भी शहर में रहते हैं और बस द्वारा सड़क मार्ग से किराडू मंदिर बाड़मेर की यात्रा करना चाहते हैं तो बता दें कि बाड़मेर शहर देश के सभी प्रमुख सड़क मार्गो से अच्छी तरह जुड़ा हुआ है। बाड़मेर के लिए भारत के बड़े शहरों से सीधी बस सेवा उपलब्ध है। दिल्ली, गुजरात, पंजाब, महाराष्ट्र से बाड़मेर के लिए प्रतिदिन बसों का आवागमन रहता है। आप देश के कोई भी हिस्से से बाड़मेर शहर आसानी से पहुंच सकते हैं।Barmer tu kiradu bus

ट्रेन द्वारा किराडू मंदिर बाड़मेर कैसे पहुंचे – How to reach Kiradu Mandir Barmer by Train

Barmer railway station दोस्तों अगर आप ट्रेन द्वारा किराडू मंदिर बाड़मेर की यात्रा करना चाहते हैं तो बता दे कि बाड़मेर भारत का सीमावर्ती बड़ा जिला है। इस लिए बाड़मेर रेलवे स्टेशन भारत के प्रमुख शहरों से अच्छी तरह जुड़ा हुआ है। यहां पर दिल्ली, जोधपुर से प्रतिदिन रेल सेवा चालू है। और हफ्ते में एक दिन बाड़मेर से बेंगलुरु यशवंतपुर एक्सप्रेस ट्रेन भी चलती है। ट्रेन द्वारा आप बाड़मेर शहर आसानी से पहुंच सकते हैं। बाड़मेर शहर पहुंचने के बाद आप बस या टैक्सी द्वारा किराडू मंदिर आसानी से पहुंच सकते हैं।Barmer Rajasthan railway station photo

हवाई जहाज से किराडू मंदिर बाड़मेर कैसे पहुंचे – How to reach Kiradu Temple Barmer by Airplane

Jodhpur airport in hindi दोस्तों अगर आप किराडू मंदिर बाड़मेर की यात्रा हवाई जहाज से करना चाहते हैं तो बता दें कि बाड़मेर का नजदीकी हवाई अड्डा जोधपुर में है। जो बाड़मेर से लगभग 200 किलोमीटर की दूरी पर है। जोधपुर से बस या रेल द्वारा बाड़मेर आना होगा। बाड़मेर शहर पहुंचने के बाद आप बस या टैक्सी द्वारा किराडू मंदिर आसानी से पहुंच सकते हैं।

किराडू मंदिर बाड़मेर की यात्रा के दौरान कहां ठहरें? – Where to stay during your trip to Kiradu Temple Barmer

Top tourist hotels in barmer दोस्तों आप अगर किराडू मंदिर बाड़मेर घूमने आते हैं और यहां ठहरना चाहते हैं तो बता दे की बाड़मेर भारत का सीमावर्ती बड़ा जिला शहर है। इस लिए बाड़मेर शहर में कई सस्ती और महंगी होटल मौजूद है। जिसमें आप अपने बजट के अनुसार किसी भी होटल में ठहर सकते हैं। और इनके अलावा यहां अनेक छोटे-बड़े गेस्ट हाउस और धर्मशाला भी हैं। जहां आप ठहर सकते हैं।किराडू में रात रुकने से क्या होता है

यह भी पढ़े : अल्मोड़ा हिल स्टेशन उत्तराखंड

बाड़मेर का प्रसिद्ध नाश्ता और भोजन – Famous Breakfast & food of Barmer Rajasthan

Top famous food of Barmer दोस्तो आप किराडू मंदिर देखने बाड़मेर की यात्रा के दौरान बाड़मेर में आप स्वादिष्ट भोजन और नाश्ते के बारे में जानना चाहते हैं तो बता दे कि बाड़मेर का प्रसिद्ध नाश्ता प्याज कसोरी, मिर्ची बड़ा, दाल बड़ा, पकवान और भी कई प्रकार के स्वादिष्ट व्यंजन आपको नाश्ते के रूप में मिल जाएंगे। बाड़मेर का प्रसिद्ध भोजन बाजरे का सोगरा और कड़ी और पूरे राजस्थान का फेमस दाल बाटी चूरमा यहां पर आप को भोजन के रूप में मिल जाएंगे।Barmer ka prasiddh bhojan

बाड़मेर की प्रसिद्ध होटल – top famous hotels in barmer rajasthan

होटल कैलाश इंटरनेशनल बाड़मेर – Hotel Kailash International Barmer

होटल कलिंगा पैलेस बाड़मेर – Hotel Kalinga Palace Barmer

होटल इंद्रप्रस्थ रिज़ॉर्ट बाड़मेर – Hotel Indraprastha Resort BarmerKailash international Hotel Barmer

किराडू मंदिर बाड़मेर के आसपास शहरो की दूरी – Distance of cities around Kiradu Mandir Barmer

किराडू से बाड़मेर की दूरी – Distance from Kiradu to Barmer

39 किलोमीटर

किराडू से जोधपुर की दूरी – Kiradu to jodhpur distance

235 किलोमीटर

किराडू से जैसलमेर की दूरी – kiradu to jaisalmer distance

168 किलोमीटर

किराडू से धोरीमन्ना की दूरी – kiradu to Dhorimnna distance

103 किलोमीटर

किराडू से सांचौर की दूरी – kiradu to sanchore distance

170 किलोमीटर

किराडू से बालोतरा की दूरी – kiradu to balotra distance

138 किलोमीटर

किराडू मंदिर फोटो गैलरी – kiradu temple photo galleryKiradu Temple historyChachiyay Mata Mandir kiraduKiradu Mandir imageKiradu temple imageKiradu Mandir dekhne ka samay
Kiradu ke mandir photo

जम्मू के प्रसिद्ध पर्यटन स्थल की जानकारी – top tourist places in jammu in hindi

0

top tourist places in jammutop tourist places in jammu in hindi भारत का केंद्र शासित प्रदेश जम्मू कश्मीर का जम्मू शहर हिमालय की गोद में बसा एक खूबसूरत हिल स्टेशन है। समुद्र तल से 305 मीटर की ऊंचाई पर बसा जम्मू शहर तवी नदी के खूबसूरत किनारों पर फैला हुआ है। यहां अनेक मंदिर है, इसलिए जम्मू को मंदिरों की नगरी भी कहा जाता है। यहां पर अनेक जातियों, संस्कृतियों व भाषाओं का संगम है। जम्मू शहर अपनी विशिष्टताओ और प्राकृतिक सौंदर्य के कारण देशी-विदेशी पर्यटकों के आकर्षण का केंद्र है।

jammu in hindi हिमालय पर्वत की गोद मे बसा जम्मू कश्मीर अपनी प्राकृतिक सुन्दरता के कारण पूरे विश्व मे प्रसिद्ध है। जम्मू शहर में माता वैष्णों देवी मंदिर जाने के लिए प्रतिवर्ष लाखों की संख्या में तीर्थ यात्री देश भर से आते हैं। माता वैष्णो देवी धाम के अलावा जम्मू में घूमने के लिए और भी कई पर्यटन स्थल भी हैं। जो जम्मू में आने वाले पर्यटकों का मन मोह लेते हैं।

best places to visit in jammu दोस्तो आप भी जम्मू मे घूमना चाहते हैं तो ईस लेख को पूरा जरूर पढ़िए ईस लेख मे जम्मू के प्रसिद्ध पर्यटन स्थलों के बारे मे संपूर्ण जानकारी दी गई है। जैसे जम्मू की यात्रा कैसे करें, जम्मू की यात्रा के दौरान क्या देखें, जम्मू में घूमने के लिए सबसे अच्छी जगह कौनसी है और जम्मू की यात्रा के दौरान कहा ठहरे।

जम्मू का प्रसिद्ध धार्मिक स्थल माता वैष्णो देवी मंदिर कटरा – Famous religious place of jammu mata Vaishno Devi Temple Katra in hindi

Vaishno devi mandir jammu in hindi वैष्णो देवी हिंदुओं का प्रमुख तीर्थ स्थल है। माता वैष्णो देवी मंदिर भारत के सबसे पवित्र और प्रसिद्ध हिंदू मंदिरों में से एक है। माता वैष्णो देवी मंदिर जम्मू से 45 किलोमीटर दूर कटरा शहर के पास स्थित है। विश्व प्रसिद्ध माता वैष्णो देवी धाम में साल-भर भारी संख्या में श्रद्धालु दर्शन करने आते हैं। कटरा से माता वैष्णो देवी मंदिर लगभग 15 किलोमीटर की दूरी पर त्रिकुटा के पहाड़ पर स्थित है। वैसे तो श्रद्धालु माता वैष्णो देवी के दर्शन करने पैदल चढ़ाई करना पसंद करते हैं। लेकिन अगर कोई श्रद्धालु पैदल चढ़ाई करने में असमर्थ होते हैं। उन श्रद्धालुओं के लिए यहां खच्चर व पिट्ठू की सुविधाएं उपलब्ध हैं। और यहां पर माता वैष्णो देवी यात्रा के लिए हैलीकॉप्टर की सुविधा भी उपलब्ध है। दोस्तों आप भी कभी जम्मू कश्मीर मैं घूमने के लिए जाते हैं तो माता वैष्णो देवी के मंदिर में दर्शन करने जरूर जाएं।Vaishno Devi Mandir Jammu Katra

जम्मू के दर्शनीय स्थल रघुनाथ मंदिर – Raghunath Temple Jammu in hindi

top tourist places in jammu in hindi रघुनाथ मंदिर भगवान श्री राम को समर्पित है। जो जम्मू शहर के मध्य में स्थित है। रघुनाथ मंदिर मंदिर का निर्माण महाराजा गुलाब सिंह ने सन् 1835 में आरंभ करवाया था जिसे सन् 1860 में उनके पुत्र महाराजा रणवीर सिंह ने पूरा करवाया था। रघुनाथ मंदिर की आंतरिक हिस्सों में सोना जड़ा है जो यहां पर आने वाले पर्यटकों का मन मोह लेता है। इस मंदिर में की गई कारीगरी और नक्काशी एवं मंदिर में देवी देवताओं की कलात्मक एवं आकर्षक प्रतिमाएं देखने लायक है। जम्मू का यह रघुनाथ मंदिर भारत के प्रसिद्ध मंदिरों में से एक है। दोस्तों आप भी कभी जम्मू शहर में घूमने के लिए जाते हैं तो रघुनाथ मंदिर में दर्शन करने जरूर जाए।

यह भी पढ़े : पटनीटॉप में घूमने की जगह

जम्मू की प्रसिद्ध गुफा अमरनाथ गुफा – Amarnath Cave, the famous cave of jammu in hindi

Amarnath gufa jammu in hindi जम्मू से 267 किलोमीटर दूर अमरनाथ गुफा पूरे विश्व में प्रसिद्ध है। अमरनाथ गुफा हिंदुओं के सबसे प्रमुख तीर्थ स्थलों में से एक है। भगवान शिव जी को समर्पित अमरनाथ गुफा में हर साल बड़ी संख्या में श्रद्धालु दर्शन करने आते हैं। पौराणिक कथाओं के अनुसार कहा जाता है कि इस अमरनाथ गुफा में भगवान शिव जी ने माता पार्वती को अमर कथा सुनाई थी। अमरनाथ गुफा में हर वर्ष अपने आप बर्फ से शिवलिंग बनता है जो यहां पर आने वाले श्रद्धालुओं के आस्था का प्रतीक है। हर साल अमरनाथ की यात्रा होती है जिसमें देश के कोने-कोने से श्रद्धालु आते हैं। कहा जाता है कि इस गुफा में भगवान शिव जी की बर्फ से बने शिवलिंग के दर्शन करने से इंसान के सारे कष्ट दूर हो जाते हैं। दोस्तों आप भी कभी जम्मू कश्मीर में घूमने के लिए जाते हैं तो अमरनाथ गुफा में भगवान शिव जी के दर्शन करने जरूर जाएं।Amarnath Mahadev Jammu Kashmir

जम्मू का प्रसिद्ध मंदिर रणवीरेश्वर मंदिर – Famous Temple of Jammu Ranveereshwar Temple in hindi

Famous temple in jammu रणवीरेश्वर मंदिर जम्मू का सबसे प्राचीन मंदिर है। इस मंदिर का निर्माण सन् 1883 में महाराजा रणवीर सिंह द्वारा करवाया गया था। रणवीरेश्वर मंदिर भगवान शिव जी को समर्पित है इस मंदिर में भगवान शिव जी की एक विशाल शिवलिंग स्थापित है और इस शिवलिंग के आसपास 12 और शिवलिंग है। इनके अलावा और भी यहां पर भगवान शिव जी की हजारों शिवलिंग है। जो यहां पर आने वाले श्रद्धालुओं की आस्था का प्रतीक है। रणवीरेश्वर मंदिर जम्मू शहर के शालीमार मार्ग पर स्थित है। दोस्तों आप भी जम्मू यात्रा के दौरान इस मंदिर में दर्शन करने अवश्य जाएं।

यह भी पढ़े : गुलमर्ग में घूमने लायक स्थान

जम्मू में देखने लायक प्रसिद्ध पीर खो गुफा – Famous Pir Kho Caves to see in Jammu in hindi

जम्मू शहर से लगभग 3.5 किलोमीटर दूर पीर खो गुफा तवी नदी के तट पर स्थित हैं। इस गुफा को जामवंत गुफा के नाम से भी जाना जाता है। पीर खो गुफा भगवान शिव को समर्पित है। इस गुफा में एक शिवलिंग स्‍थापित है। इस लिऐ इसे पीर खो गुफा मंदिर भी कहा जाता है। पौराणिक कथाओं के अनुसार कहा जाता है की यहां कई पीर, फकीरों और ऋषि-मुनियों ने तपस्‍या की थी इस लिए गुफा का नाम पीर खो गुफा के पड़ गया। भगवान शिव जी के दर्शन करने यहां पर श्रद्धालु आते रहते हैं। दोस्तों आप भी इस गुफा में दर्शन करने जरूर जाए।जम्मू कश्मीर के दर्शनीय स्थल

जम्मू में देखने लायक जगह डोगरा आर्ट गैलरी – Dogra Art Gallery to visit in jammu in hindi

Dogra museum jammu डोगरा आर्ट गैलरी प्राचीन समय का संग्रहालय है जो पहले नए सचिवालय के पास स्थित था। अब इस संग्रहालय को पुराने सचिवालय में स्थानांतरित कर दिया गया है। इस संग्रहालय में जम्मू तथा बसोहली पहाड़ी कला से संबंधित चीजें संग्रहित हैं। और इस संग्रहालय में प्राचीन समय की कई अद्भुत वस्तुएं देखने लायक है। दोस्तों आप भी जम्मू की यात्रा के दौरान जम्मू की डोगरा आर्ट गैलरी देखने जरूर जाएं।

यह भी पढ़े : श्रीनगर में घूमने लायक स्थान

जम्मू में देखने लायक खूबसूरत जगह अमर महल पैलेस संग्रहालय – Amar Mahal Palace Museum in Jammu in hindi

अमर महल पैलेस तवी नदी के किनारे 500 फिट ऊंची पहाड़ी पर स्थित है। लाल रंग की ईंटों से बना यह खूबसूरत महल कभी महाराजा अमर सिंह का आवासीय महल हुआ करता था। यह महल अब एक संग्रहालय का रूप धारण कर चुका है। इस संग्रहालय का मुख्य आकर्षण महत्त्वपूर्ण चित्र, परिधान व अस्त्र-शस्त्र हैं। इस संग्रहालय में एक पुस्तकालय भी है जो देखने लायक है। अमर महल पैलेस की आस पास का नजारा बहुत ही खूबसूरत है जो यहां पर आने वाले पर्यटकों का मन मोह लेता है। दोस्तों आप भी जम्मू यात्रा के दौरान अमर महल पैलेस संग्रहालय देखने जरूर जाए।Amar Mahal palace in hindi

जम्मू के टूरिस्ट पैलेस मुबारक मंडी पैलेस – Mubarak mandi palace top tourist places in jammu in hindi

jammu kashmir beautiful places मुबारक मंडी पैलेस जम्मू का सबसे लोकप्रिय पर्यटन स्थल है। यह स्थान पहले राजाओं के महल हुआ करते थे। हालांकि इसके कुछ एक भाग गिर चुके हैं, फिर भी बचे हुए भाग आज भी अपनी उत्कृष्ट कलात्मकता के लिए जाने जाते हैं। मुबारक मंडी पैलेस महल जम्मू तवी नदी के तट पर स्थित है। मुबारक मंडी पैलेस में राजस्थानी और मुगल स्थापत्य कला का मिश्रण बहुत ही खूबसूरत है जो देखने लायक है। जम्मू में आने वाले पर्यटकों के लिए मुबारक मंडी पैलेस आकर्षण का केंद्र है। दोस्तों आप भी अपनी जम्मू की यात्रा के दौरान मुबारक मंडी पैलेस घूमने जरूर जाए।

यह भी पढ़े : अल्मोड़ा हिल स्टेशन उत्तराखंड

जम्मू में देखने के लिए प्राचीन बाहु किला – top tourist places in jammu bahu fort to visit in Jammu in hindi

यह किला जम्मू से 4 किलोमीटर दूर तवी नदी के किनारे एक पहाड़ी पर स्थित है। इस किले का निर्माण महाराजा बाहुलोचन ने लगभग 3000 साल पहले करवाया था। और बाद में डोगरा शासकों द्वारा इस किले का पुनर्निर्माण भी किया गया था। इस किले से पूरे शहर का खूबसूरत नजारा देखने लायक होता है। जम्मू के इस बाहु किले में की गई कारीगरी और नक्काशी देखने के लिए हमेशा पर्यटक आते रहते हैं। तो दोस्तों आप भी अपनी यात्रा के दौरान यह किला जरूर देखें।Bahu fort jammu history in hindi

जम्मू का लोकप्रिय पर्यटन स्थल कुद – Popular tourist places in Jammu Kud in hindi

कुद जम्मू का खूबसूरत एक खूबसूरत हिल स्टेशन है। जो पर्यटकों के लिए आधुनिक सुविधाओं वाला एक खूबसूरत हिल स्टेशन है। कुद से पटनीटॉप की दूरी लगभग 8 किलोमीटर है। और जम्मू से कुद की दूरी लगभग 100 किलोमीटर है। यहां पर साफ पानी के मनमोहक झरने हैं जो यहां पर आने वाले पर्यटकों को अपनी ओर आकर्षित करते हैं। दोस्तों आप भी जम्मू कश्मीर घूमने के लिए जाते हैं तो इस जगह पर जरूर चाहिए।

यह भी पढ़े : अहमदाबाद में घूमने लायक स्थान

जम्मू में घूमने के लिए सबसे सुंदर जगह अखनूर – top tourist places in jammu Akhnoor in hindi

अखनूर भारत का केंद्र शासित प्रदेश जम्मू और कश्मीर में एक खूबसूरत जगह है। जम्मू से अखनूर की दुरी लगभग 29 किलोमीटर है। चिनाव नदी के किनारे बसा अखनूर को जम्मू की सबसे खूबसूरत जगह में से एक माना जाता है। कहा जाता है कि यहां पर महाराजा गुलाब सिंह का राजतिलक हुआ था। अखनूर में एक प्राचीन किला भी है। जो भारत के प्रसिद्ध किलो में से जाना जाता है। इस किले में की गई कारीगरी और नक्काशी देखने योग्य है। तो दोस्तों आप भी अपनी यात्रा के दौरान इसके लिए को जरूर देखें।Akhnoor fort history in hindi

जम्मू कश्मीर का सबसे प्रसिद्ध स्थल शिवखोड़ी गुफा – Shivkhori Cave, the most famous places of Jammu and Kashmir in hindi

शिवखोड़ी जम्मू से 65 किलोमीटर की दूरी पर स्थित भगवान शिव जी को समर्पित एक बेहद खूबसूरत गुफा है जिसमें एक शिवलिंग है। इस गुफा का प्रवेश द्वार बेहद तंग है। लेकिन भीतर करीब आधा किलोमीटर जाने पर एक खुला मैदान है जहां सैकड़ों लोग एक साथ खड़े हो सकते हैं। कहा जाता की इस पवित्र गुफा का रास्ता सीधा स्वर्ग लोक की और जाता है।

जम्मू की प्रमुख झीलें मानसर और सुरिंसर झील – Major Lakes of Jammu Mansar and Surinsar Lake in hindi

Top famous lake in jammu मानसर और सुरिंसर जम्मू की 2 प्रमुख झीलें हैं। जो अपनी प्राकृतिक सुंदरता के कारण लोकप्रिय है। मानसर झील जम्मू से 65 और सुरिंसर झील 45 किलोमीटर दूर स्थित है। यहां हर साल अप्रैल माह में मानसर मेला लगता है। यहां नौकायन की सुविधा भी है। पिकनिक के लिए यह स्थान बहुत ही खूबसूरत है।Top famous lake in jammu kashmir

जम्मू घूमने जाने का सही समय – Best time to visit jammu in hindi

दोस्तों वैसे तो आप जम्मू में घूमने का प्रोग्राम किसी भी महीने में बना सकते हैं। जम्मू का मौसम सालभर सुखद रहता है। लेकिन बरसात में घूमने-फिरने में आपको परेशानी हो सकती है। सर्दियों में अगर आप जम्मू कश्मीर घूमने जाते हैं तो अपने साथ गर्म कपड़े जरूर ले जाएं।

यह भी पढ़े : मेहरानगढ़ किला जोधपुर

जम्मू घूमने कैसे जाएं – How to visit Jammu in hindi

Jammu trip in hindi दोस्तो आप देश का केन्द्र शासित प्रदेश जम्मू-कश्मीर के जम्मू शहर में घूमने की यात्रा करना चाहते हैं तो बता दें कि जम्मू शहर भारत के विभिन्न शहरों से अच्छी तरह जुड़ा हुआ है। जम्मू मे आप सड़क मार्ग, रेल मार्ग और हवाई मार्ग से आसानी से पहुंच सकते हैं।

बस द्वारा जम्मू घूमने केसे जायें – How to visit Jammu by Bus in hindi

दोस्तों आप भारत मे किसी भी शहर में रहते हैं और बस द्वारा सड़क मार्ग से जम्मू कश्मीर की यात्रा करना चाहते हो तो बता दें कि जम्मू शहर देश के सभी प्रमुख सड़क मार्गो से अच्छी तरह जुड़ा हुआ है। देश के प्रमुख शहरों से जम्मू के लिए सीधी बस सेवाएं उपलब्ध हैं। दिल्ली, पंजाब, हरियाणा, राजस्थान और भी पड़ोसी राज्य से जम्मू के लिए प्रतिदिन बसों का आवागमन रहता है। आप देश के कोई भी हिस्से में हो जम्मू आसानी से पहुंच सकते हैं।Jammu Travels in hindi

ट्रेन द्वारा जम्मू घूमने कैसे पहुंचे – How to reach Jammu by Train in hindi

Jammu railway station दोस्तों अगर आप ट्रेन द्वारा जम्मू की यात्रा करना चाहते हैं तो बता दे कि जम्मू रेलवे स्टेशन भारत के प्रमुख शहरों से अच्छी तरह जुड़ा हुआ है। देश के सभी प्रमुख शहरों से जम्मू शहर के लिए प्रतिदिन रेल सेवाएं उपलब्ध हैं। दिल्ली, अहमदाबाद, मुंबई, चेन्नई, भोपाल, कोलकाता तथा कन्याकुमारी जैसे शहरों से जम्मू के लिए हमेशा ट्रेनों का आवागमन रहता है। आप देश के किसी भी हिस्से से ट्रेन द्वारा जम्मू आसानी से पहुंच सकते हैं।Jammu railway station

हवाई जहाज से जम्मू घूमने कैसे पहुंचे – How to reach Jammu by plane in hindi

Jammu airport in hindi दोस्तों अगर आप जम्मू की यात्रा हवाई जहाज से करना चाहते हैं तो बता दें कि जम्मू शहर में देश का घरेलू एयरपोर्ट है। जम्मू एयरपोर्ट के लिए देश के बड़े शहरों से प्रतिदिन फ्लाइट का आवागमन रहता है। जम्मू का निकटतम अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा ( Sheikh Ul Alam International Airport ) हवाई अड्डा श्रीनगर है। जो जम्मू से 265 किलोमीटर दूर है। श्रीनगर में देश और विदेश से नियमित रूप से फ्लाइट का आवागमन रहता है। आप देश के किसी भी शहर से जम्मू शहर आसानी से पहुंच सकते हैं।

जम्मू शहर की यात्रा के दौरान कहां ठहरें? – Where to stay while visiting Jammu city in hindi

Top tourist hotels in jammu दोस्तों आप अगर जम्मू घूमने आते हैं और यहां ठहरना चाहते हैं तो बता दे की जम्मू शहर जम्मू-कश्मीर का सबसे बड़ा शहर है और यह पर्यटकों के लिए खुबसूरत जगह होने से यहां पर अधिक संख्या में पर्यटक घूमने आते रहते हैं। इस लिए जम्मू में आपको कई सस्ती और महंगी होटल मौजूद है। जिसमें आप अपने बजट के अनुसार किसी भी होटल में ठहर सकते हैं। और इनके अलावा यहां अनेक छोटे-बड़े गेस्ट हाउस भी हैं। जहां आप ठहर सकते हैं।

जम्मू के आसपास शहरो की दूरी – Distance from cities around Patnitop hill station

जम्मू से पटनीटॉप की दूरी – Jammu to Patnitop distance
110 किलोमीटर
जम्मू से कटरा की दूरी – Jammu to Katra distance
44 किलोमीटर

जम्मू से गुलमर्ग की दूरी – Distance from Jammu to gulmarg
313 किलोमीटर

जम्मू से सोनमर्ग की दूरी – Jammu to Sonmarg distance
358 किलोमीटर
जम्मू से श्रीनगर की दूरी – Jammu to Srinagar distance
266 किलोमीटर
जम्मू से पंजाब की दूरी – Jammu to Punjab distance
255 किलोमीटर
जम्मू से दिल्ली की दूरी – Jammu to Delhi distance
589 किलोमीटर
जम्मू से जयपुर की दूरी – Jammu to Jaipur distance
821 किलोमीटर

जम्मू फोटो गैलरी – top tourist places in jammu photo galleryJammu and Kashmir tourist place photo galleryJammu and Kashmir Tourism